न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CPIM :  दस सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा, वृंदा करात ने कहा- वाम दल आपसी तालमेल से खड़ा करेंगे उम्मीदवार

1,687

Ranchi:  दस सीटों पर मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी की ओर से प्रत्याशियों की घोषणा की गयी. घोषणा राज्य सचिव गोपीकांत बख्शी ने की. इस दौरान पोलित ब्यूरो सदस्य वृंदा करात मौजूद रहीं. गोपीकांत बख्शी और करात ने इसकी जानकारी देते हुए कहा वामदल इस चुनाव में एक साथ चुनाव लड़ेंगे. उम्मीद है 40 से 45 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किये जायेंगे.

उन्होंने कहा कि वामदलों के साथ बैठक चल रही है. आने वाले दिनों में अन्य वामदल भी सीटों की घोषणा करेंगे. ऐसे में उनकी सीटों के चयन को ध्यान में रखते हुए ही सीपीआइएम आगे सूची जारी करेंगी. लेकिन इसमें अन्य वामदलों का ध्यान रखा जायेगा. वामदलों के साथ हुई बैठक की जानकारी देते हुए इन्होंने कहा कि सीटों पर लगातार चर्चा हो रही है.

JMM

इसे भी पढ़ेः #PresidentRule : महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा, रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी

गठबंधन में शामिल नहीं किये जाने से वामदलों पर असर नहीं पड़ेगा

भाजपा को हराना वामदलों का मुख्य मुद्दा है. पहले तय किया गया कि अधिक से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ा जायेगा. लेकिन अब भाजपा को हराने के लिये जरूरी है कि पार्टी कम से कम सीटों पर चुनाव लड़े. जिससे जीत सुनिश्चित हो सके. वहीं विधानसभा में पार्टी प्रतिनिधियों को बढ़ाना भी है. ऐसे में वामदल संयुक्त चुनाव लड़ेंगे. वहीं वृंदा करात ने कहा कि गठबंधन में वामदलों को शामिल नहीं किये जाने से वामदलों की एकता पर कोई फर्क नहीं पड़ता.

इन प्रत्याशियों के नामों की हुई घोषणा

हटिया से सुभाष मुंडा, खिजरी से प्रफुल्ल लिंडा, सिल्ली से विश्वदेव  सिंह मुंडा, बहरागोड़ा से स्वपन महतो, चतरा से नरेश भारती, पाकुड़ से मो इकबाल, महेशपुर से गोपीन सोरेन, लिटृटीपाड़ा से देवेंद्र डेहरी, झरिया से शिवबालक पासवान, महागामा से अशोक शाह है. सीपीआई पिछले दिनों आठ सीटों पर प्रत्याशियों की सूची जारी कर चुकी है. इस दौरान वृंदा करात ने कहा कि जीविका पर हमला होने से लोग सरकार के विरोध में वोट करेंगे. और इस चुनाव में यह जरूर देखा जायेगा. जिस तरह से राज्य में पिछले कुछ सालों से बेरोजगारी बढ़ी है इसका असर देखा जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः #Kolkata :  आयुष्मान भारत के मुकाबले स्वास्थ्य साथी योजना पर फोकस करेगी ममता बनर्जी की सरकार

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश निदंनीय

महाराष्ट्र और हरियाणा चुनाव का जिक्र करते हुए वृंदा करात ने कहा कि चुनाव ने भाजपा को आइना दिखाया है. ऐसे में एनडीए को अलर्ट हो जाना चाहिये. जिस तरह की राजनीति भाजपा करती है, ऐसे में यह स्पष्ट है कि अगर पार्टी किसी भी जगह सरकार बना सकने में असफल होती है तो राष्ट्रपति शासन की कोशिश की जाती है.

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश की उन्होंने निंदा की. राज्य के चुनावी मुद्दों का जिक्र करते हुए इन्होंने कहा कि सरकार की नीतियां, जनजातियों की जमीन सुरक्षा, राज्य में लॉ एडं ऑर्डर आदि मुद्दे होंगे.

इसे भी पढ़ेंः #Dhanbad: पीबी एरिया के आधा दर्जन माइंस में भरा पानी, मजदूरों ने अंदर जाने से किया इनकार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like