न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : पत्थर माइंस पर अपराधियों का हमला, 25 से 30 राउंड फायरिंग

रात करीब आठ बजे किया हमला, जवाबी फायरिंग होने पर भाग निकले अपराधी

1,090

Palamu : पलामू जिले के पांकी थानांतर्गत नक्सल प्रभावित क्षेत्र आसेहार में संचालित मेसर्स रेयाज खान कंस्ट्रक्शन स्टोन माइंस सह क्रशर यूनिट पर सोमवार रात अपराधियों ने हमला बोल दिया. अपराधियों ने 12 से 14 राउंड गोलियां चलायीं.

जवाब में माइंस पर तैनात गार्ड की ओर से भी गोलीबारी की गयी. गार्ड की ओर से 14 से 15 राउंड गोलियां चलाये जाने की सूचना मिली है. जवाबी कार्रवाई होने पर अपराधी मौके से फरार हो गये.

पांकी थाना क्षेत्र के नक्सल प्रभावित क्षेत्र आसेहार में बीती रात आठ बजे के करीब अपराधियों ने मेसर्स रेयाज खान कंस्ट्रक्शन स्टोन माइंस सह क्रशर यूनिट पर हमला बोल दिया और गोली चलायी.

इसे भी पढ़ें : मालेगांव ब्लास्टः सांसद प्रज्ञा के नाम से रजिस्टर्ड बाइक को पंचनामा करनेवाले गवाह ने पहचाना

पुलिस पहुंची तब तक भाग चुके थे अपराधी

प्राप्त जानकारी के अनुसार, माइंस के रात्रि प्रहरी खाना खाकर मोर्चा की ओर जा रहे थे. इसी बीच फायरिंग शुरू हो गयी. रात्रि प्रहरी की ओर से भी जवाबी फायरिंग की गयी.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

रुक-रुक कर दोनों ओर से करीब नौ बजकर चालीस मिनट तक फायरिंग होती रही. अपराधियों की ओर से 12 राउंड एवं माइनर्स के गार्ड द्वारा भी 15 राउंड फायरिंग की सूचना है.

घटना की सूचना मिलते ही पलामू अभियान एसपी अरुण कुमार सिंह पांकी, लेस्लीगंज एवं तरहसी थाना के प्रभारी एवं भारी शस्त्र बल के साथ घटना स्थल पहुंचे. तब तक अपराधी घटनास्थल से भाग चुके थे.

हम डरने वाले नहीं हैं

पलामू : पत्थर माइंस पर अपराधियों का हमला, 25 से 30 राउंड फायरिंग
इस माइंस पर पहले भी हुए हैं हमले.

इधर, घटना की खबर मिलते ही तरहसी के गुरहा एवं डालटनगंज से भी परिवार के सदस्य हथियार के साथ आसेहार पहुंचे. घटना के समय रेयाज अहमद खान घटनास्थल से बाहर थे.

इनके बड़े भाई समाजसेवी मुमताज अहमद खां ने बताया कि मेरा परिवार अपराधियों एवं उग्रवादियों के निशाने पर लगातार रहा है. कारण उनके सामने नहीं झुकना एवं उनकी शर्तों पर समझौता करना रहा है. हम इनकी गीदड़ भभकी से डरने वाले नहीं हैं.

इसे भी पढ़ें : स्वागत कीजिए देश की पहली प्राइवेट ट्रेन का!

कई बार हो चुकी है फायरिंग

मुमताज ने बताया कि माइंस पर अपराधियों द्वारा लेवी के लिए लगातार फायरिंग की जाती रही है. 2015 के बाद 2017-18 में भी फायरिंग की गयी थी, लेकिन वे अपने मंसूबे में कामयाब नही हो सके.

तीसरी बार 8 जुलाई को फायरिंग की गयी. लेकिन इस बार भी अपराधियों की मंशा को कामयाब नहीं होने दी गयी.

अपराधियों की पहचान के लिए छानबीन जारी

पांकी के थाना प्रभारी ने बताया कि घटना को अपराधियों या फिर उग्रवादियों द्वारा अंजाम दिया गया है, इसकी छानबीन की जा रही है. जांच के बाद ही इस दिशा में ठोस जानकारी दी जायेगी.

अब तक जला दी गयी हैं दर्जनों मशीनें, क्षति करोड़ों में

मुमताज अहमद खां ने बताया कि अब तक नक्सलियों एवं अपराधियों द्वारा दर्जनों मशीने जला दी गयी है. उन्होंने बताया कि सोरठ में तीन ट्रक मेरे समझकर जलाये गये, लेकिन उसमें मेरा एक ट्रक था.

सिल्दीलिया में कैनाल निर्माण कार्य में लगे जेसीबी को जलाया गया. शेखर कंस्ट्रक्शन द्वारा पांकी-मेदिनीनगर पथ निर्माण में लगे मेरे जेसीबी को जलाया गया.

पाठक पगार में सपनी नदी पर पुल निर्माण में लगी कई मशीनों को 2013 में जलाया गया. 2014 में पांकी थाना क्षेत्र के बसरिया में तीन जेसीबी को आग के हवाले किया गया. 2011 में चैनपुर के हुटार में सड़क निर्माण कार्य में लगे जेसीबी को जलाया गया.

2017 सितम्बर में तरहसी थाना क्षेत्र के बजलपुर में रोड निर्माण में लगे जेसीबी को फूंका गया. 20 अप्रैल 2018 को चतरा जिले के प्रतापपुर प्रखंड के लिप्ता-नारायणपुर में गोरहर नदी में पुल निर्माण कार्य में लगे हाईड्रोलिक पाइलिंग मशीन, हाइड्राग्रेन मशीन, ट्रैक्टर को भी जलाया गया. इससे उन्हें लगभग पांच करोड़ की क्षति हुई है.

इसे भी पढ़ें : अयोध्या विवादित भूमि मामलाः जल्द सुनवाई के लिये पक्षकार ने सुप्रीम कोर्ट में दी अर्जी 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like