न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेएनयू देशद्रोह मामले में मुकदमा चलाने की अनुमति, कानूनी सलाह ले रही है दिल्ली सरकार

दिल्ली सरकार के सूत्रों के अनुसार मुकदमा चलाने की मंजूरी देने के लिए अदालत ने नियम तय किये हैं. उनका पालन किया जायेगा.

43

NewDelhi : दिल्ली सरकार जेएनयू देशद्रोह मामले में मुकदमा चलाने की अनुमति देने के संबंध में कानूनी सलाह ले रही है. सरकारी सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. बता दें कि जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और नौ अन्य लोगों के खिलाफ दायर आरोपपत्र के मामले में अदालत ने दिल्ली पुलिस से पूछा था कि उन्होंने समुचित अनुमति/मंजूरी के बिना उनके खिलाफ आरोपपत्र कैसे दायर कर दिया? जान लें कि शनिवार को अदालत द्वारा सवाल करने के बाद से दिल्ली की केजरीवाल सरकार और दिल्ली पुलिस के बीच ठन गयी है. दिल्ली सरकार के सूत्रों के अनुसार मुकदमा चलाने की मंजूरी देने के लिए अदालत ने नियम तय किये हैं. उनका पालन किया जायेगा. सूत्र ने बताया, नियमानुसार सरकार को मंजूरी देने के लिए तीन महीने का वक्त मिलता है. दिल्ली पुलिस को आरोपपत्र दायर करने में तीन साल का वक्त लगा.

सरकार को फैसला लेने से पहले कानूनी सलाह लेने की अनुमति दी जानी चाहिए. उन्होंने कहा, लेकिन यदि सरकार तीन महीने में कोई फैसला नहीं ले पाती है तो, इसे मुकदमे के लिए मंजूरी मिली मान लिया जायेगा. बता दें कि दिल्ली पुलिस ने 14 जनवरी को इस संबंध में आरोपपत्र दायर किया था.

Trade Friends

मामला जेएनयू परिसर में आयोजित कार्यक्रम में देश-विरोधी नारे लगाने से जुड़ा है

WH MART 1

मामला 2016 में जेएनयू परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में देश-विरोधी नारे लगाने से जुड़ा है. दरअसल, देशद्रोही मामले में दिल्ली पुलिस को दिल्ली सरकार के अनुमति लेनी होती है और यह दिल्ली सरकार का लॉ डिपार्टमेंट देता है. इतना ही नहीं,अनुमति लेने के लिए फाइल एलजी के पास भी जाती है. अगर परमिशन नहीं मिली तो चार्जशीट पर कोर्ट संज्ञान नहीं लेगा. बताया जा रहा है कि पुलिस ने जिस दिन चार्जशीट पेश की उसी दिन परमिशन के लिए अप्लाई किया था. दिल्ली पुलिस द्वारा दायर चार्जशीट सेक्शन-124 A,323,465,471,143,149,147,120B के तहत  पेश की गयी है.

चार्जशीट में कुल 10 मुख्य आरोपी  शामिल किये गये  हैं जिसमें कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य हैं. चार्जशीट में मुख्य आरोपी कन्हैया कुमार, अनिर्बान भट्टाचार्य, उमर खालिद, सात कश्मीर छात्र और 36 अन्य लोग हैं. चार्जशीट के अनुसार  कन्हैया कुमार ने भी देश विरोधी नारे लगाये थे. गवाहों के हवाले से चार्जशीट में बताया गया है कि कन्हैया कुमार ने भी देश विरोधी नारे लगाये थे. पुलिस को कन्हैया का भाषण देते हुए एक वीडियो भी मिला है. कहा गया कि कन्हैया को पूरे कार्यक्रम की पहले से जानकारी थी.

इसे भी पढ़ें :  जयराम रमेश, कारवां के खिलाफ डोभाल के बेटे की मानहानि याचिका पर सुनवाई 30 को

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like