न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

उप मुख्यमंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा को नहीं है 4214.33  करोड़ के अनुदान का ऑडिट नहीं होने की जानकारी

1,396

Ranchi:  झारखंड में पंचायतों के सशक्तिकरण के लिए मिले 14वें वित्त आयोग के अनुदान की राशि का सरकार ऑडिट नहीं करा रही है. राज्य के उप मुख्यमंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा को भी इसकी जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा कि ऑडिट तो लगातार हो रही है. उन्होंने कहा कि वित्त आयोग से 4214.33 करोड़ रुपये मिले हैं. जिसका 2014-15 से लगातार अंकेक्षण भी कराना है.

उन्होंने कहा कि अगर अंकेक्षण नहीं हो रहा है, तो इसकी जानकारी लेकर कार्रवाई की जायेगी. न्यूजविंग संवाददाता ने बताया कि नौ महीने से अंकेक्षण करनेवाले फर्म का चयन ही पंचायती राज विभाग की तरफ से नहीं किया गया है. तीन महीने से अधिक समय तक निविदा को अंतिम रूप नहीं दिये जाने से उसे रद्द करने की औपचारिकताएं की जानी चाहिए.

JMM

निविदा रद्द कर पुनर्निविदा आमंत्रित करने की प्रक्रिया भी शुरू करना जरूरी है. इसे विभागीय मंत्री ने गंभीरता से लेते हुए विभागीय सचिव से रिपोर्ट मांगने की बातें कहीं.

इसे भी पढ़ेंः मरीज को रेफर करने वाले डॉक्टर को सर्विस फी का 10 प्रतिशत कमीशन देता है मेदांता अस्पताल

वित्त आयोग से 2019-20 तक मिलने हैं 6046.73 करोड़

14वें वित्त आयोग से झारखंड को 2019-20 तक कुल 6046.73 करोड़ रुपये मिलने हैं. अब तक 4214.33 करोड़ रुपये राज्य को मिल चुके हैं. 14वें वित्त आयोग का कार्यकाल डेढ़ साल में समाप्त हो जायेगा. झारखंड को 2014-15 में 652.83 करोड़, 2016-17 में 1022.53 करोड़, 2017-18 में 1178.63 करोड़, 2018-19 में 1360.62 करोड़ रुपये मिले हैं.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

2019-20 में 1832.12 करोड़ और मिलेंगे. वित्त आयोग के अनुदान में 90 प्रतिशत सहायता मूल अनुदान के रूप में दी जाती है, जबकि 10 फीसदी राशि परफारमेंस के आधार पर राज्यों को दी जाती है.

इसे भी पढ़ेंः BREAKING NEWS : सरायकेला में नक्सलियों ने गश्ती दल पर हमला किया, पांच पुलिसकर्मी शहीद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like