न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद : भूली में होगा 66 हजार आवास का निर्माण, विस्थापितों को मिलेगा आशियाना

76

Dhanbad : अब धनबाद की श्रमिक नगरी भूली भी देश के अन्य शहरों की तर्ज पर स्मार्ट सीटी के रूप में शुमार होने वाली है. श्रमिक नगरी भूली को स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित किया जाएगा. इसके लिए 500 एकड़ जमीन पर 66 हजार आवास का निर्माण किया जायेगा.  नगर निगम जेरेडा के साथ मिलकर धनबाद में एक बार फिर बड़ी टाउनशिप पर काम करने जा रहा है.

भूली टाउनशिप की लगभग 500 एकड़ जमीन पर नगर निगम 66 हजार आवास बनाकर देगा. यहां अग्नि प्रभावित और अन्य कारणों से प्रभावित लोगों को बसाया जाएगा. इतना ही नहीं  गैर पुनर्वास प्रभावित लोगों को किफायती दर पर आवास बनाकर दिया जाएगा. इसकी प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है.

दो दिन पहले मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल ने मुख्यमंत्री रघुवर दास और नगर विकास विभाग के सचिव अजय कुमार सिंह के सामने यह प्रस्ताव रखा था. उन्होंने सहमति दी है. नगर निगम के पदाधिकारी बीसीसीएल अधिकारी से मिलने पहुंचे. बीसीसीएल और नगर निगम को तीन दिन में प्लान देने को कहा गया है. इसमें कार्ययोजना, लागत और आवास के लिए चयनित क्षेत्र की जानकारी देनी है.

इसे भी पढ़ें – जेल में बंद रहकर भी सक्रिय हैं राज्य के कई बड़े अपराधी, जेल से ही चला रहे अपना गिरोह

Trade Friends

अग्नि प्रभावित 60 हजार लोगों को बसाने की है तैयारी

गौरतलब है कि झरिया तथा जिले के आसपास के क्षेत्र के अग्नि प्रभावित क्षेत्र के  60 हजार विस्थापितों और भूली के 4400 अवैध क्वार्टर में रह रहे लोगों को इस टाउनशिप के तहत बसाया जाएगा.

इस टाउनशिप से एशिया की सबसे बड़ी श्रमिक नगरी भूली के आवासों में अवैध तरीके से रह रहे लोगों से कब्जामुक्त हो जायेगा. बीसीसीएल के अनुसार, भूली में छह हजार क्वार्टर हैं. इनमें 1600 क्वार्टर में बीसीसीएल कर्मचारी रहते हैं. 66 हजार आवास बनने पर यहां लगभग तीन लाख लोगों को बसाया जा सकेगा. हालांकि जेरेडा इस टाउनशिप में  सारी सुविधा उपलब्ध होने का दावा कर रही है.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : हार्ड कोक प्लांटों का लिंकेज कोयला बंद होने से उद्योग बंदी के कगार पर, व्यवसायी लगा रहे…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like