न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद : 500 की आबादी में बनाये सिर्फ 10 शौचालय, डेढ़ साल पहले ही कर दिया ODF घोषित

716

Dhanbad : सड़क, बिजली, पानी, शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे मूलभूत सुविधाओं की कमी तो ज्यादातर क्षेत्रों में देखने को मिल जाती है. लेकिन कुछ ऐसी समस्याएं भी हैं जिनका हिस्सा लोगों को न चाहते हुए भी बनना पड़ता है. कुछ ऐसी ही समस्या से जूझ रहे हैं धनबाद के वार्ड नंबर 35 के सिंह नगर खपड़ाधौड़ा के लोग. जिन्हें आज भी शौचालय की सुविधा नहीं है. वो इसके लिए अधिकारियों के चक्कर लगाने को मजबूर हैं.

इसे भी पढ़ें- कश्मीर विद मोदी ट्रेंड करने पर माकपा नेता सलीम गुस्साये, कहा, गोदी मीडिया को हक नहीं कि…   

JMM

डेढ़ साल पहले कर दिया ODF घोषित

सबसे हैरत की बात तो यह है कि जिस मुहल्ले के लोग आज भी खुले में शौच जाने को विवश हैं, उस मुहल्ले को डेढ़ साल पहले ही ओडीएफ भी घोषित कर दिया गया है. सरकार भी झारखंड में हर गांव और वार्ड में शौचालय बनाने का दावा कर रही है.

लेकिन खपड़ाधौड़ा में रहने वाले लोगों का कहना है कि करीब डेढ़ साल पहले इस मुहल्ले को ओडीएफ घोषित कर दिया गया था. और तब लोगों से यह कहा गया था कि तुम लोगों को जल्द ही शौचलय बनवाकर दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- दिल्ली, हरियाणा, झारखंड व महाराष्ट्र विस चुनाव : भाजपा ने प्रभारी घोषित किये,  माथुर झारखंड के चुनाव प्रभारी

500 की आबादी में बनाये सिर्फ 10 शौचालय

वार्ड नंबर 35 के अंतर्गत आने वाले सिंह नगर खपड़ाधौड़ा में लगभग 500 लोगों की आबादी है. इस 500 की आबादी वाले इलाके में गिने-चुने लोगों के घरों में ही शौचालय बन सका है. बांकी लोगों को शौच के लिए बाहर जाना पड़ता है. गांव में मुश्किल से 10 लोगों के पास ही अब तक शौचालय है.

Related Posts

पलामू: मानदेय के नाम पर चेक का लॉलीपॉप, बकाया साढ़े तीन लाख, मिला 6 हजार का चेक

जिस अकाउंट का चेक, उसमें पैसे नहीं-बैंकों का चक्कर लगाकर परेशान हैं कमी.

स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्होंने कई बार शौचालय निर्माण के लिए फार्म भरा लेकिन आज तक उनके घरों में शौचालय का निर्माण नहीं हो सका है. लोग चाहते हैं कि उनके घर में भी शौचालय की सुविधा हो.  शौचालय नहीं रहने के कारण महिलाओं को अधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है. जब वे खुले में शौच के लिए जाती हैं तो कुछ लोग तरह-तरह की फब्तियां कसते रहते हैं.

इसे भी पढ़ें- PM से बात कर राहुल ने वायनाड और केरल बाढ़ पीड़ितों के लिये मांगी मदद

क्या कहना है वार्ड पार्षद का

इस मामले में जब वार्ड पार्षद निरंजन माली से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि शौचालय निर्माण हो रहा है. कई घर ऐसे हैं जहां शौचालय का काम अधूरा हैं. वहीं कई लोगों के घरों में दो-दो शौचालय बन गये हैं.

उन्होंने इसका ठीकरा सिस्टम पर फोड़ते हुए कहा कि शौचालय बनाने का सिस्टम ही गलत है. क्योंकि कुछ शौचालय पार्षद से, कुछ ठेकेदार से तो कुछ एनजीओ से बनवाये जा रहे हैं. जिस कारण सब काम अधर में पड़ा है. कुछ भी सही से नहीं हो पा रहा है और इसी वजह से लोग शौचालय से वंचित हैं.

जांच के दिये गये हैं आदेश : उपायुक्त

इस मामले में धनबाद उपायुक्त अमित कुमार ने कहा कि मामले की जानकारी मिली है. इसे लेकर जांच के आदेश दिये गये हैं. जांच के बाद जो लोग इसमें दोषी पाये जायेगें उनपर कार्रवाई की जायेगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like