न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Dhanbad : एक सप्ताह से बंद पेट्रोल पंप के कमरे में मालिक ने खुद को गोली मारकर दी जान

815

Dhanbad : समाजसेवी एवं बिरसा सर्विस स्टेशन पेट्रोल पंप के मालिक राकेश ग्रोवर ने अपने ही पेट्रोल पंप पर खुद को एक कमरे में बंद कर गोली मार खुदकुशी कर ली. घटना  मंगलवार शाम 5:30 बजे की है.

JMM

पेट्रोल पंप के कर्मियों ने बताया कि देर शाम तक उनका कमरा बंद था. हमलोग सोच रहे थे कि वे सो रहे हैं. देर शाम तक जब वे नहीं जगे तो उन्होंने मामले से उनके बिजनेस पार्टनर अभिषेक अग्रवाल को अवगत कराया.

अभिषेक ने दरवाजा तोड़कर देखा तो उनका शव पड़ा हुआ था. उन्हें पीएमसीएच ले जाया गया जहां लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. बलियापुर स्थित बिरसा पेट्रोल पंप पिछले काफी दिनों से बंद था.

इसे भी पढ़ें : 70 वर्षीय दिव्यांग गुल्लक में 10 हजार के सिक्के लेकर पर्चा भरने पहुंचे, गिनने में निकला समय, अब चुनाव आयोग जायेंगे

दरवाजा तोड़कर निकाला गया शव

बताया जाता है कि राकेश ग्रोवर पिछले कई दिनों से तनाव में चल रहे थे. उनके तनाव की क्या वजह थी इस बात की जानकारी अभी तक नहीं मिल पायी है.

घटना के संबंध में जानकारी देते हुए पेट्रोल पंप के कर्मी ने कहा कि काफी देर से राकेश बाबू का कमरा बंद था. लोगों ने मामले की जानकारी उनके पार्टनर अभिषेक अग्रवाल को दी.

देर शाम को अभिषेक पेट्रोल पंप पर पहुंचे तो उन्होंने राकेश को उठाने की कोशिश की. काफी कोशिश के बाद भी जब उन्होंने दरवाजा नहीं खोला तो दरवाजा तोड़ दिया गया.

इसे भी पढ़ें : #JPSC : 14 साल बाद 19 नवंबर को होनी थी प्रथम सीमित उप समाहर्ता परीक्षा, आयोग ने किया रद्द

घटनास्थल से नहीं बरामद हुआ कोई हथियार

दरवाजा टूटते ही उनके होश उड़ गये. सामने राकेश ग्रोवर का शव पड़ा हुआ था. मामले की जानकारी पुलिस को भी दी गयी. पुलिस ने घटना स्थल पर पहुंचकर मामले की छानबीन की.

घटना स्थल से पिस्तौल या अन्य कोई हथियार बरामद नहीं किया गया है. पुलिस का कहना है कि सिर्फ फर्श पर फैला हुआ खून मिला है. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर गोली मारने के लिए उन्होंने जिस हथियार का इस्तेमाल किया था वह हथियार गया कहां.

यह आत्महत्या का मामला है या कुछ और? पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है.

इसे भी पढ़ें : #DoubleEngine की सरकार में शिक्षा का निजीकरण: 11 प्राइवेट यूनिवर्सिटी खुलीं, सरकारी मात्र दो 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like