न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

5 हजार अतिरिक्त किसानों के बीच होगा मृदा स्वास्थ्य कार्ड का वितरण : कृषि सचिव

कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग की सचिव पूजा सिंघल ने दी जानकारी

866

Ranchi : कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग की सचिव पूजा सिंघल ने कहा है कि मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के तहत किसानों को राष्ट्रीय मानक के आधार पर जिला स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराया जा रहा है.

Trade Friends

योजना के तहत लगभग 14 लाख कार्ड लाभुकों के बीच वितरित किए जा चुके हैं. वही आगामी 21 अगस्त को टाना भगत स्टेडियम में करीब 5 हजार किसानों के बीच मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरित किया जायेगा. साथ ही 350 मिट्टी के डॉक्टरों को पहचान पत्र और 120 मृदा परीक्षक एवं 120 रियेज्न्ट रिफिल का भी वितरण किया जायेगा.

कृषि सचिव ने यह बातें सोमवार को सूचना भवन में आयोजित एक प्रेस वार्ता के दौरान कही. इस दौरान कृषि निदेशक छवि रंजन, सूचना एवं जनसंपर्क निदेशक राम लखन प्रसाद गुप्ता, विभाग के संयुक्त सचिव मंजुनाथ भजन्त्री सहित अऩ्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : आरोप : मेवालाल नमकीन कंपनी काम कराने के बाद नहीं दे रही वेतन

मिनी लैब महत्वपूर्ण योगदान

कृषि सचिव ने कहा कि कृषकों को डोर स्टेप पर निःशुल्क मृदा विश्लेषण की सेवा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से सरकार के वर्ष 2018 में 1864 मिनी लैब एवं मिनी लैब का 2600 अतिरिक्त रिफिल उपलब्ध कराया गया था.
मृदा स्वास्थ्य कार्ड को तीव्र गति से कृषकों के बीच उपलब्ध कराने हेतु मिनी लैब महत्वपूर्ण योगदान कर रहा है.

WH MART 1

मिनी लैब को सुगमता एवं दक्षता पूर्वक संचालित करने हेतु प्रत्येक पंचायत में दो-दो प्रशिक्षित महिला समूह के सदस्य/आर्य मित्र/कृषक मित्र को प्राथमिकता के आधार पर सम्बद्ध किया जा रहा है, जिसे बोलचाल की भाषा में मिट्टी के डॉक्टर नाम दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : टिक टॉक वीडियो शूट करने के दौरान युवक की मौत

किसानों के लिए बहुत ही फायदेमंद है कार्ड योजना

सचिव सिंघल बताया कि मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना किसानों के लिए बहुत ही फायदेमंद है. राज्य में बहुत से ऐसे किसान हैं जो यह नहीं जानते कि अधिकतम उपज प्राप्त करने के लिए फसलों का पोषण किस प्रकार से किया जाना चाहिए. वे अपने अनुभव से फसल उत्पादन को बढ़ाने का प्रयास करते हैं.

मृदा स्वास्थ्य कार्ड द्वारा जैविक जीवाणु खाद तथा मृदा सुधार को जैसे चुना, डेलामाइट आदि का समन्वित एवं संतुलित प्रयोग के बारे में मिट्टी के डॉक्टरों द्वारा जानकारी दी जाती है जिससे कृषक अपने उत्पादों में गुणवत्ता एवं वृद्धि प्राप्त कर सकें.

इसे भी पढ़ें : गढ़वा: भाई को बचाने गयी बहन भी डूबी, दोनों की मौत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like