न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीएम के गृह जिले में हो रहा #PMAwasYojna की जमीन पर कब्जा, अतिक्रमण के कारण ढाई हजार की जगह अब बनेंगे कवेल 1100 मकान

1,332

Jamshedpur: अतिक्रमणकारियों ने पीएम आवास योजना  की जमीन तक को नहीं छोड़ा है. सीएम रघुवर दास के गृह जिले  में बेखौफ अतिक्रमणकारी अब पीएम आवास की जमीन पर भी कब्जा जमा रहे हैं.

जमशेदपुर के बागुनहातु  में पीएम आवास योजना के लिए चिन्हित जमीन में से  6 एकड़ जमीन पर आतिक्रमण कर लिया गया है. पहले 16 एकड़ जमीन पर करीब ढाई हजार आवास बनाने की योजना थी. इसके लिए लिए 172 करोड़ रुपए एलॉट भी हो चुके हैं.

JMM

इसे भी पढ़ेंः#Parliament में और मजबूत हुई मोदी सरकार, राज्यसभा में बहुमत की ओर NDA

लेकिन अतिक्रमण के कारण अब केवल 10 एकड़ जमीन ही बची है जिस पर आवास बन सकता है. सरकार की तरफ से एक दल भी बागुनहातु में जाच कर अपनी रिपोर्ट दे चुका है जिसमें अतिक्रमण की वजह से जमीन कम होने की बात कही गई है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

हफ्ते भर पहले पुलिस और प्रशासन अतिक्रमण हटाने बागुनहातु गई भी लेकिन विरोध के कारण प्रशासन को खाली हाथ लौटना पड़ा था.

नए एक्शन प्लान पर हो रहा विचार

अतिक्रमण हटाने में सफलता नहीं मिलने पर बची जमीन पर ही आवास बनाने पर सहमती बनाई जा रही है. पूरे प्रोजेक्ट को दो चरण में बांटने पर विचार किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंः#RTIAct में संशोधन के बाद मुख्य सूचना आयुक्त, सूचना आयुक्तों का कद घटाने की तैयारी में मोदी सरकार, ड्राफ्ट तैयार

पहले चरण में 10 एकड़ जमीन पर करीब 1136 आवास बनाने पर नगर विकास विभाग ने झारखंड अधिसुचित क्षेत्र समिति (जेएनएसी) को स्वीकृति के लिए फाइल दी है.

बाकि बचे 6 एकड़ पर दूसरे चरण में पहले अतिक्रमण हटाया जाएगा, उसके बाद निर्माण होगा. इसके लिए अलग से बजट राशि तय की जाएगी.

लॉटरी के लिए आवेदनों की भरमार

बागुहातु और बिरसा नगर  में पीएम आवास के लिए 12000 से अधिक आवेदन विभाग को मिल चुके हैं. लॉटरी के जरिए बागुनहातु में ढाई हजार आवास के लिए 4000 लाभुकों को चलान भी मिल चुका है. नए एक्शन प्लान को अगर मंजूरी मिलती भी है तो भी लोगों को आवास के लिए अब और लंबा इंतजार करना होगा.

इसे भी पढ़ेंःजानें झारखंड के कितने विधायक हैं दागी, IPC की कौन सी धारा के तहत चल रहा है माननीयों पर केस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like