न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका : जितपुर गांव तक नहीं पहुंची है सड़क, विधानसभा चुनाव में वोट बहिष्कार करेंगे ग्रामीण

सड़क से जुड़ा न होने के कारण गर्भवती व मरीज को डेढ़ किलोमीटर खटिया पर ले जाने को विवश हैं ग्रामीण.

676

Dumka : दुमका जिले के काठीकुंड प्रखंड स्थित पिपरा पंचायत के जितपुर गांव को सरकार सड़क से जोड़ नहीं पायी है. विकास की बयार बहाने के दावों की हकीकत गांव में पहुंचने पर नजर आती है.

JMM

जितपुर गांव की कुल जनसंख्या करीब 250 है. सड़क से नही जुड़ा होने के कारण ग्रामीणों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है. बच्चों को भी रोज स्कूल आने-जाने में बहुत कठिनाई होती है. ग्रामीणों ने कहना है कि कुछ लोगों ने अपने बच्चों को नामांकन प्राइवेट स्कूल में कराया है लेकिन सड़क नहीं होने के कारण स्कूल वैन गांव में नहीं पहुंचती.

इसे भी पढ़ें : धनबादः बच्चा चोरी का आरोप लगाकर लोगों ने दो महिलाओं को बनाया बंधक, पुलिस ने बचायी जान

एंबुलेंस का नहीं ले पाते लाभदुमका : जितपुर गांव तक नहीं पहुंची है सड़क, विधानसभा चुनाव में वोट बहिष्कार करेंगे ग्रामीण

सरकार गरीबों के लिए मुफ्त एम्बुलेंस की सेवा भले दे रही हो, इस गांव के लोग रोड नहीं होने के कारण इसका लाभ नहीं ले सकते. ग्रामीणों का कहना है कि अगर गांव में कोई गर्भवती व मरीज है और उसका स्वास्थ्य केंद्र में सुरक्षित डिलीवरी व इलाज कराना है तो उन्हें डेढ़ किलोमीटर तक खटिया में ले जाना पड़ता है. एम्बुलेंस नहीं आने के कारण संस्थागत प्रसव कम होता है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

अक्सर लोग बाइक और साइकिल दुर्घटनाओं का भी शिकार होते हैं. ग्रामीणों का कहना है कि कई वर्षों से जन प्रतिनिधियों से सड़क की मांग की जा रही लेकिन जन प्रतिनिधि गंभीरता से  नही ले रहे हैं. वे सिर्फ आश्वासन दे रहे हैं. इसलिए ग्रामीणों ने निर्णय लिया है कि अगर गांव को सड़क मार्ग से नही जोड़ा जाता है तो आगामी चुनाव में वोट का बहिष्कार किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें : कार से खींच कर नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने के मामले में पुलिस ने 12 आरोपियों को किया गिरफ्तार

दोनों ओर से सड़क बनाने की मांग

ग्रामीणों ने कहा कि यह गांव दो तरफ से मुख्य मार्ग से जुड़ सकता है. एक जितपुर से दुर्गाडीह जो करीब एक किलोमीटर है और बीच में एक छोटी नदी ‘चीतान गाडा’ है, उसमे एक पुल की जरुरत है और दूसरा जितपुर से पिपरा जो करीब 1.5 किलोमीटर है. ग्रामीणों की जन प्रतिनिधियों, सरकार और प्रशासन से मांग है कि गांव को दोनों तरफ से सड़क मार्ग से जल्द जोड़ा जाय.

इसे भी पढ़ें : पलामू : CSP संचालक ने अपने ही दस फिंगर प्रिंट्स से हजारों खाते खोल लाखों हड़पे, भागते हुए पकड़ाया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like