न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Dumka : CM, मंत्री लुईस मरांडी, सांसद सुनील सोरेन से गुहार के बाद भी जोरिया में नहीं बना पुल, अब वोट बहिष्कार

540

Dumka : संथाल में विकास की बयार बहाने का दावा करने वाली ‘डबल इंजन भाजपा सरकार’ से रानेश्वर प्रखंड की तालडंगाल पंचायत के तारादह गांव के लोग नाराज हैं.

JMM

वजह, गांव का आंगनबाड़ी केंद्र और उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय सड़क मार्ग से नहीं जुड़ा होने के कारण बच्चों को बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. सबसे अधिक कष्ट तारादह गांव के बंगाली टोला के बच्चों को है.

इस टोला से आंगनबाड़ी व उत्क्रमित प्रा. विद्यालय के बीच में एक जोरिया पड़ता है. इसको पार करने में पानी तो एक समस्या है ही साथ-साथ यहां जमीन भी बहुत पथरीली है जिस कारण अक्सर बच्चे और बड़े गिरकर चोटिल हो जाते है.

इसे भी पढ़ें : #JSCA की घर वापसी, 14 साल के बाद जमशेदपुर में AGM, कीनन स्टेडियम के लौट सकते हैं पुराने दिन

बारिश में खतरनाक हो जाता है रास्ता

गांव के एक टोले में पुल तो बना है लेकिन पुल पार करने के बाद थोड़ी दूरी में सड़क खत्म हो जाती है. पहाड़ के नीचे जंगल की पगडंडी से चलकर बच्चे स्कूल व आंगनबाड़ी केंद्र जाते हैं.

वर्षा के दिनों में जोरिया को पार करना बहुत खतरनाक हो जाता है.ग्रामीणों का यह भी कहना है कि इस टोला के अधिकाश खेत जोरिया के पार पड़ते हैं जिस कारण मवेशियों को भी उस पार ले जाने और ले आने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है.

ग्रामीणों का कहना है कि इस टोला में सिर्फ दो चापाकल हैं, जिसमे एक चापाकल गर्मी के मौसम में करीब सूख ही जाता है, उस समय ग्रामीणों को पीने का पानी लाने के लिए जोरिया पार कर आंगनबाड़ी केंद्र जाना पड़ता है.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर: सब्सिडियरी कंपनी स्टील स्ट्रिप्स पर टाटा मोटर्स के ब्लॉक क्लोजर का असर, 55 जूनियर ऑफिसर को इस्तीफा देने का आदेश

नेताओं को आवेदन देकर निराश हो चुके हैं लोग

ग्रामीणों का कहना है कि जोरिया में पुल बनवाने के लिए शिकारीपाड़ा विधानसभा क्षेत्र के विधायक नलिन सोरेन को करीब चार वर्ष पूर्व मौखिक शिकायत की गयी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई.

उसके बाद ग्रामीणों ने वर्तमान झारखंड सरकार की कल्याण मंत्री डॉ लुईस मरांडी को लिखित आवेदन दिया, उसके बाद भी जोरिया में  पुल का निर्माण नही किया गया.

ग्रामीणों का कहना है कि उसके बाद दुमका लोकसभा क्षेत्र के सांसद सुनील सोरेन और झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास से भी मौखिक शिकायत की गयी लेकिन कोई असर नहीं हुआ.

जोरिया में पुल नही बनने के कारण ग्रामीण काफी नाराज, आक्रोशित और ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं.

ग्रामीणों ने लिया निर्णय- पुल नही बना तो चुनाव में वोट का बहिष्कार करेंगे

ग्रामीणों ने यह निर्णय लिया है कि जो भी नेता वोट मांगने आयेगा उससे यह सवाल पूछा जायेगा कि आखिर वोट देने के बाद भी जोरिया में पुल का निर्माण क्यों नही हुआ ? ग्रामीणों का कहना है कि अगर जल्द ही जोरिया पर पुल का निर्माण नही किया जाता है तो चुनाव में वोट का बहिष्कार किया जायेगा.

इस मौके पर अभिनाश पाल, धनंजय पाल, शिबानी हेम्ब्रोम, सुमित्रा पाल, निमायचन्द्र पाल, रूपा देवी, सोनामुनी टुडू, चंपा पाल, रेणुका देवी, पानवती गोराई, सुशीला गोराई, शिबू मरांडी, सुतिलाल हेम्ब्रोम, किरण मरांडी, श्यामसुन्दर गोराई, शिबू मरांडी, करमिला हेम्ब्रोम के साथ काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : रोचक होने वाली है कोडरमा विधानसभा की फाइटः ‘विपक्ष’ कमजोर, ‘बीजेपी’ की अपनी लड़ाई, ‘आप’ का डेव्यू

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like