न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Economy :  #FinancialYear 2020 में 2 लाख करोड़ रुपये तक कम हो सकता है टैक्स रेवेन्यू

साल 2018-19 में ग्रॉस टैक्स रेवेन्यू अनुमानित 22.7 लाख करोड़ रुपये था. वहीं, आर्थिक समीक्षा के अनुसार वास्तविक प्राप्तियां 20.8 लाख करोड़ रुपये रही थीं.

41

NewDelhi : वित्त वर्ष 2020 में 2 ट्रिलियन रुपये तक टैक्स रेवेन्यू कम रह सकता है. मोदी सरकार के इंटरनल सर्वे से इस बात बात के संकेत मिले हैं कि मौजूदा वित्त वर्ष में ग्रॉस टैक्स रेवेन्यू बजट अनुमान 24.6 लाख करोड़ से करीब 2 लाख करोड़ यानी 2 ट्रिलियन कम रह सकता है. बिजनेस स्टैंडर्ड  के अनुसार वित्त मंत्रालय ने मौजूदा आर्थिक सुस्ती के दौर में अर्थव्यवस्था से जुड़ी संशोधित जानकारी मांगी थी.

खबर है कि साल 2018-19 में ग्रॉस टैक्स रेवेन्यू अनुमानित 22.7 लाख करोड़ रुपये था. वहीं, आर्थिक समीक्षा के अनुसार वास्तविक प्राप्तियां 20.8 लाख करोड़ रुपये रही थीं.  इस पर नजर डालें तो रेवेन्यू से जुड़ी प्राप्तियां बजट अनुमान से 1.9 लाख करोड़ रुपये कम रहीं.

इसे भी पढ़ें : #Parliament का #WinterSession 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक, लोकसभा-राज्यसभा सचिवालय को भेजी गयी सूचना
Trade Friends

रेवेन्यू कलेक्शन में कमी से राज्यों को संसाधनों का आवंटन कम होगा

2018-19 में जीडीपी की ग्रोथ रेट 6.8 फीसदी थी. खबर के अनुसार टैक्स रेवेन्यू कलेक्शन में कमी से राज्यों को संसाधनों का आवंटन कम होगा. इससे पहले 15वें वित्त आयोग में राज्यों के आवंटन में इसका महत्वपूर्ण योगदान था. साल 2019-20 के बजट डॉक्यूमेंट में ग्रॉस टैक्स रेवेन्यू के 24.6 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान लगाया गया है.

वहीं, केंद्र का शुद्ध टैक्स रेवेन्यू 16.5 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है.  यदि ग्रॉस टैक्स रेवेन्यू करीब 2 लाख करोड़ रुपये कम रहता है तो केंद्र का शुद्ध टैक्स रेवेन्यू करीब 15.1 लाख करोड़ रुपये होगा. वहीं, राज्यों को जीएसटी कॉम्पनसेशन, इंटीग्रेटेड जीएसटी में राज्यों का हिस्सा आदि अन्य मद में 8.1 लाख करोड़ रुपये प्राप्त होने का अनुमान है.

इसे भी पढ़ें : #Economic Recession : आंकड़ों में हेराफेरी का असर देश की अर्थव्यवस्था को किस रास्ते पर ले जा रहा है

डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन भी इस साल महज 5 फीसदी बढ़ा

डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन भी इस साल महज 5 फीसदी बढ़ा है. इसका मतलब यह है कि बजट लक्ष्य के 17.3 फीसदी वृद्धि को हासिल करने के लिए दूसरी छमाही में इसमें कम से कम 27 फीसदी वृद्धि होनी चाहिए. इस बार जीएसटी कलेक्शन में भी कमी का अंदेशा है. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हाल ही में कॉरपोरेट टैक्स घटाने का ऐलान किया है. इससे भी रेवेन्यू कलेक्शन में कमी आ सकती है.

हालांकि वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा कि सरकार पूंजीगत व्यय से समझौता किये बिना राजकोषीय घाटे के जीडीपी का 3.3 फीसदी रखने के लक्ष्य को हासिल करेगी. 15वें वित्त आयोग की सिफारिशें 1 अप्रैल, 2020 से लागू होंगी और 31 मार्च, 2025 तक चलेंगी.  सूत्रों के अनुसार 15वां वित्त आयोग 30 नवंबर तक सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है.

इसे भी पढ़ें : #NobelLaureate अभिजीत ने कहा, ज्यादा से ज्यादा पैसा पीएम किसान योजना में खर्च करें, मनरेगा की मजदूरी दर बढ़ायें   

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like