न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ऑनलाइन म्यूटेशन सिस्टम के बाद भी 37500 मामले लंबित, सेवा देने की गारंटी नियमावली 2011 में शामिल है दाखिल खारिज

1,369

Pravin Kumar

राज्य में दाखिल खारिज मामलों के लंबित रहने के कारण जमीन खरीदार अंचल कार्यालय की दौड़ रहे हैं. वहीं म्यूटेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन होने के बाद भी राज्य भर में 37500 से अधिक दखल खारिज के मामले लंबित हैं. इसमें से 21998 मामले 30 दिनों से अधिक और 991 मामले 90 दिन से अधिक समय से लंबित हैं. दाखिल खारिज लंबित रहने के मामले में मुख्यमंत्री के साथ उपायुक्तों की बैठक में भी समीक्षा की गयी और लंबित मामले पर चिंता व्यक्त किया गया. उपयुक्ति को निर्देश मिलने के बाद जिला में मामले पर अपायुक्त भी रेस हो गये.

JMM

विभाग के द्वारा लंबित मामलों के निपटारे के लिए लक्ष्य निर्धारित किया गया. ज्ञात हो कि राज्य दाखिल खारिज के मामले को सेवा देने की गारंटी नियमावली 2011 के अंतर्गत रखा गया है. जिसमें 30 दिन के अंदर बिना आपत्ति एवं 90 दिन के अंदर आपत्ति रहित मामलों का निपटारा किया जाना है.

इसके बावजूद कई जिलों में हजारों की संख्या में म्यूटेशन के मामले लंबित हैं. विभाग द्वारा उपायुक्तों को दिए गए निर्देश लक्ष्य निर्धारित करने को कहा गया है. आदेश का अनुपालन नहीं करने वाले पदाधिकारियों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई करने एवं आर्थिक दंड का प्रावधान की भी बात कही गयी है.

इसे भी पढ़ेंः मोदी सरकार ने शहीदों के बच्चों की बढ़ायी स्कॉलरशिप और रघुवर सरकार ने पुलवामा शहीदों को ठगा

किस जिले में कितने लंबित मामले

बोकारो 1252, चतरा 448, दुमका 139, देवघर 557, धनबाद 4411, गोड्डा 29 ,गढ़वा 2051, गिरिडीह 6303, गुमला 582, हजारीबाग 2776, जामताड़ा 20, कोडरमा 1208, खूंटी 230, लातेहार 656, लोहरदगा 131, पूर्वी सिंहभूम  1106, पश्चिम सिंहभूम 538, पाकुड़ 3075,पलामू 2110, रांची 7182 ,रामगढ़ 403, सरायकेला खरसावां 1393 ,साहिबगंज 568, सिमडेगा 2292 कुल 37500 लंबित है.

इसे भी पढ़ेंः दुमका : वज्रपात का कहर, घर के मलबे में दबकर तीन की मौत, दो गंभीर

15 जून तक कितने मामलों के निष्पादन का रखा गया है लक्ष्य

सिमडेगा 194 जिसमें 34 मामले 90 दिन से अधिक के हैं. साहिबगंज 519 जिसमें दो मामले 90 दिन से अधिक के हैं. सरायकेला खरसावां 817 मामले इसमें 175 मामले 90 दिन से अधिक के हैं. रामगढ़ 78,  रांची 1238 जिसमें 138 मामले के हो गये 90 दिन से अधिक, पलामू 869 जिसमें 27 मामले 70 दिन से अधिक पुराने हैं. पाकुड़ 1303 तीन मामले 90 दिन से अधिक के हैं. पश्चिम सिंहभूम 342, पूर्वी सिंहभूम 735, लोहरदगा 13 , लातेहार 490, खूंटी 36, कोडरमा 332, जिसमें 119 मामले 90 दिन से अधिक के हैं. जामताड़ा 16, हजारीबाग 1027, गुमला 433, गिरिडीह 2706 जिसमें 206 मामले 90 दिन से अधिक के हैं. गढ़वा 858, गोड्डा 22, धनबाद 1518, देवघर 428, चतरा 146, बोकारो के 45 मामलों का निपटरा 15 जून तक करना है. उपायुक्तों को कहा गया है कि 15 जून तक कम से कम 14165  मामलों का निपटारा कर लें. साथ ही आपत्ति वाले मामले का पूरी तरह निबटरा करने को कहा गया है.

इसे भी पढ़ेंः झारखंड का एक ऐसा गांव जहां पानी के अभाव में नहीं बजती है शहनाई, बूंद-बूंद पानी को तरस रहे लोग (देखें वीडियो)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like