न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#FinanceMinister के ऐलान के बाद शेयर बाजार में जबरदस्त उछाल, #Sensex1800 व निफ्टी 11 हजार के पार 

784

Mumbai : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की, सुस्ती पड़ती अर्थव्यवस्था को गति देने के उपायों की शुक्रवार को की गयी घोषणा से शेयर बाजारों में सुबह के कारोबार में जोरदार तेजी आयी. बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 1800 अंक से अधिक उछला.

तीस शेयरों वाला बीएसई सूचकांक पूर्वाह्न 11.20 मिनट पर 1326.65 अंक यानी 3.68 प्रतिशत की छलांग लगा कर 37,420.12 अंक पर पहुंच गया.

Jmm 2

वहीं नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी 500 अंक ज्यदा की तेजी के साथ 11000 अंक के पार हो गया. वहीं डॉलर के मुकाबले रुपया भी 66 पैसे मजबूत होकर 70.68 पर पहुंच गया.

इसे भी पढ़ें- #GSTCouncil की बैठक से पहले सरकार ने घटाये #CorporateTax, ऐलान के बाद शेयर बाजार में उछाल

इन कंपनियों के शेयर में तेजी और नुकसान

लाभ में रहने वाले प्रमुख शेयरों में मारुति, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एचडीएफसी बेंक, टाटा मोटर्स, येस बैंक, टाटा स्टील, एल एंड टी, आइसीआइसीआइ बैंक, बजाज आटो और आरआईएल में 9 प्रतिशत तक की तेजी आयी.

Bharat Electronics 10 Dec 2019
Related Posts

#GSTCompensation :  शिवसेना ने मोदी सरकार को चेताया, कहा,  केंद्र और राज्यों के बीच संघर्ष छिड़ सकता है

मुखपत्र सामना में प्रकाशित संपादकीय में कहा, जीएसटी लागू होने की वजह से राज्यों को होने वाले राजस्व के नुकसान की मद में 50,000 करोड़ रुपये का भुगतान करने का केंद्र ने वादा किया था.

वहीं दूसरी तरफ टीसीएस और एनटीपीसी नुकसान में रहे.

सरकार ने घटायी कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर

सरकार ने आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिये बड़ी घोषणा करते हुए शुक्रवार को कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर घटा दी. अब घरेलू कंपनियों के लिये सभी अधिशेषों और उपकर समेत कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर 25.17 प्रतिशत होगी.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि नयी दर इस वित्त वर्ष के एक अप्रैल से प्रभावी होगी. उन्होंने कहा कि दर कम करने तथा अन्य घोषणाओं से राजस्व में सालाना 1.45 लाख करोड़ रुपये की कमी का अनुमान है.

इसे भी पढ़ें- पीएम किसान सम्मान निधिः क्या #MODI और #BJP ने देश 5.72 करोड़ किसानों के साथ ठगी की!

निवेश व आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिये उठाये गये कदम

सीतारमण ने कहा कि निवेश और आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिये ये कदम उठाये गये हैं. यदि कोई घरेलू कंपनी किसी भी प्रोत्साहन का लाभ नहीं लें तो उनके लिये कॉरपोरेट कर की दर 22 प्रतिशत होगी.

उन्होंने कहा कि आयकर अधिनियम और वित्त अधिनियम में किये गये बदलाव अध्यादेश के जरिये अमल में लाये जाएंगे. उन्होंने कहा कि 22 प्रतिशत की दर से आयकर भुगतान करने का विकल्प चुनने वाली कंपनियों को न्यूनतम वैकल्पिक कर देने की जरूरत नहीं होगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like