न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड के मेडिकल कॉलेज में दाखिले के लिए अब देना होगा नीट एप्लीकेशन का कंर्फमेशन पेज

336

Ranchi: झारखंड के मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश पाने के लिए अब उम्मीदवारों को आवेदन के साथ नीट परीक्षा के एप्लीकेशन का कंर्फमेशन पेज देना होगा. इससे संबंधित सूचना जारी कर दी गयी है. दरअसल राज्य के मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश झारखंड कंबाइंड एंट्रेंस कंपीटेटिव एग्जामिनेशन बोर्ड (जेसीइसीइबी) की ओर से होनेवाली काउंसिलिंग के माध्यम से होता है. 2018 तक आवेदकों से कंर्फमेशन पेज नहीं लिया जाता था. इस वजह से झारखंड के बाहर के भी छात्र यहां नामांकन ले लेते थे.

इसे भी पढ़ें – बढ़ेंगी हेमंत सोरेन की मुश्किलेंः सोहराय भवन मामले में सरकार ने दिया कार्रवाई का आदेश

JMM

एक जुलाई तक ऑनलाइन करें आवेदन

जेसीइसीइबी ने मंगलवार को जारी किये गये काउंसिलिंग नोटिफिकेशन में इस बात का जिक्र किया है कि झारखंड के मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश लेने को इच्छुक आवेदकों को स्थानीय प्रमाणपत्र की ओरजिनल कॉपी के साथ नीट एप्लीकेशन का कंर्फमेशन पेज भी देना होगा, जिसमें इस बात का जिक्र किया गया हो कि वे झारखंड राज्य में नामांकन लेना चाहते हैं. जेसीइसीइबी ने जारी नोटिफिकेशन में कहा है कि काउंसलिंग में शामिल होनेवाले उम्मीदवार बुधवार से 1 जुलाई तक ऑनलाइन एप्लीकेशन दे सकते हैं.

इसे भी पढ़ें – सीएम रघुवर दास ने रिम्स का किया औचक निरीक्षण, इमरजेंसी में सुधार करने व मरीजों के लिए वेटिंग हॉल बनाने का दिया निर्देश

हाइकोर्ट तक गया था मामला

गौरतलब हो कि जेसीइसीइबी के द्वारा आवेदकों से नीट कंर्फमेशन पेज नहीं मांगे जाने का मामला गत वर्ष हाइकोर्ट में गया था. पिछले वर्ष छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, चंडीगढ़ जैसे राज्यों ने अपने यहां की 85 फीसदी मेडिकल सीटों में प्रवेश के लिए संबंधित राज्य में आवेदन करनेवालों से नीट कंर्फमेशन पेज मांगा था. जिसका सीधा मतलब था कि उन राज्यों की 85 फीसदी एमबीबीएस सीट में उसी राज्य के विद्यार्थियों का नामांकन हो. जानकारों के मुताबिक वैसे बच्चे जो नीट में शामिल होते हैं, उन्हें आवेदन के दौरान उस राज्य का जिक्र करना होता है, जहां के वे स्थानीय निवासी हैं और वे उसी राज्य के मेडिकल कॉलेज में नामांकन लेने को इच्छुक हैं. इसी आधार पर राज्य के मेडिकल कॉलेजों की 85 फीसदी सीटों में उन्हें नामांकन के लिए काउंसलिंग में शामिल होना होता है.

इसे भी पढ़ें – बीसीसीएल में सुरक्षा मानकों को नजरंदाज कर हो रहा है कोयले का उत्खनन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like