न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूर्व केंद्रीय मंत्री मोहम्मद अली अशरफ फातमी ने राजद को कहा बाय-बाय, मधुबनी से निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव

अल्पसंख्यक चेहरा कहे जाने वाले फातमी ने बुधवार को पार्टी से इस्तीफा देने के साथ ही तेजस्वी यादव को भी निशाने पर लिया.

85

Patna :   पूर्व केंद्रीय मंत्री मोहम्मद अली अशरफ फातमी ने आज बुधवार को राजद छोड़ दिया.  बता दें कि  फातमी  ने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा देने के बाद पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया. अपने आवास पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि तेजस्वी की उम्र से ज्यादा समय से मैं राजनीति कर रहा हूं.  फातमी ने तेजस्वी के बयान पर कहा कि राजद छोड़ने के बाद लालू ने खुद मुझे पार्टी से जोड़ा था कि मैं पार्टी या फिर लालू के पास गया था. जान लें कि टिकट नहीं मिलने से नाराज मोहम्मद अली अशरफ फातमी ने शनिवार को पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी थी और मधुबनी लोकसभा सीट से महागठबंधन उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ने की घोषणा की थी. अल्पसंख्यक चेहरा कहे जाने वाले फातमी ने बुधवार को पार्टी से इस्तीफा देने के साथ ही तेजस्वी यादव को भी निशाने पर लिया.

इसे भी पढ़ें- बेगुसराय में कन्हैया कुमार का विरोध, एक युवा ने पूछा, आपको कैसी आजादी चाहिए?  देशद्रोही मुर्दाबाद के नारे लगे

तेजप्रताप यादव  पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है

Jmm 2

उन्होंने कहा कि वे निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मधुबनी से चुनाव लड़ेंगे. इस्तीफे के बाद उन्होंने तेजस्वी पर सवाल उठाये और कहा कि मुझे पार्टी ने छह साल के लिए बिना नोटिस दिये निकाला है, लेकिन तेजप्रताप यादव जो रोज पार्टी के खिलाफ बोलते हैं उन पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है. बता दें, दरभंगा से सांसद रहे फातमी मधुबनी सीट से टिकट नहीं मिलने से नाराज चल रहे थे.  फातमी ने पार्टी को एक अल्टीमेटम भी दिया था कि वह मधुबनी सीट से नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए 18 अप्रैल तक पार्टी के फैसले का इंतजार करेंगे. फातमी ने कहा था, ‘मैंने मधुबनी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने का फैसला लिया है और 18 अप्रैल को नामांकन पत्र दाखिल करूंगा. मेरे बारे में फैसला करने के लिए पार्टी के पास 18 अप्रैल तक का समय है.

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया था कि यदि कांग्रेस पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. शकील अहमद को मधुबनी से टिकट देती है तो वह चुनाव नहीं लड़ेंगे. लेकिन अगर शकील अहमद मधुबनी से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ते हैं तो वह उस सीट से चुनाव लड़ेंगे.  बता दें कि महागठबंधन में सीट बंटवारे के तहत मधुबनी लोकसभा सीट महागठबंधन के घटक दलों में से एक विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) को मिली है. वीआईपी ने बद्री पुर्बे को मधुबनी से अपना उम्मीदवार बनाया है. भाजपा ने दिग्गज सांसद हुकुमदेव नारायण यादव के बेटे अशोक यादव को इस सीट से मैदान में उतारा है

इसे भी पढ़ें- मोदी लहर खत्म? क्यों पोलस्टर्स बीजेपी के लिए भविष्यवाणियां कर रहे हैं…

Bharat Electronics 10 Dec 2019

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like