न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तिलमिलाया पाकिस्तान,  भारत के साथ राजनयिक संबंध का दर्जा घटाया , भारतीय उच्चायुक्त को भारत लौटने को कहा  

बुधवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने नैशनल सिक्यॉरिटी कमिटी (NSC) की बैठक बुलायी थी, जिसमें पांच फैसले हुए.

263

Islamabad :  जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करते हुए संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म करने और राज्य के पुनर्गठन से पाकिस्तान तिलमिला गया है.  गुस्साये पाकिस्तान ने भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार को सस्पेंड कर दिया है.  इसके अलावा उसने भारत के साथ  राजनयिक संबंध का दर्जा भी घटा दिया है.  इस क्रम में  इस्लामाबाद ने भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को भारत लौटने को कहा है.  जान लें कि वर्तमान समय में भारत में पाकिस्तान का कोई उच्चायुक्त नहीं है.  वह इसी माह दिल्ली में उच्चायुक्त भेजने वाला था लेकिन अब  खबर है कि नहीं भेजेगा. बुधवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने नैशनल सिक्यॉरिटी कमिटी (NSC) की बैठक बुलायी थी, जिसमें ये फैसले हुए.

इसे भी पढ़ें – एक दिन में विश्व के 500 अमीरों की दौलत 8 लाख करोड़ घटी

पाकिस्तान लगातार भारत के खिलाफ भड़काऊ बयान दे रहा है

बैठक के बाद जारी बयान में बताया गया कि कुल पांच फैसले किये गये हैं.  पहला फैसला  भारत के साथ डिप्लोमैटिक रिलेशंस को डाउनग्रेड करने का लिया गया. दूसरे फैसले में भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार सस्पेंड किया गया. तीसरा फैसला भारत के साथ द्विपक्षीय रिश्तों और व्यवस्थाओं (समझौतों) की समीक्षा करने का है.  चौथे फैसले के तहत इस मामले  को संयुक्त राष्ट्र में ले जाया जायेगा.  UNSC में भी मामला उठाया जायेगा.   14 अगस्त को कश्मीरियों के साथ एकजुटता जाहिर करने और 15 अगस्त को भारत के स्वतंत्रता दिवस को काला दिवस के रूप में मनाने का  निर्णय लिया गया. यह पांचवां फैसला है.

बता दें कि भारत ने संविधान के अनुच्छेद 370 के उन प्रावधानों को खत्म कर दिया है,  जिसके तहत जम्मू-कश्मीर को कई तरह के विशेषाधिकार मिले हुए थे.  साथ ही जम्मू-कश्मीर को 2 केंद्रशासित भागों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया गया है. । इससे पाकिस्तान तिलमिलाया हुआ है और लगातार भारत के खिलाफ भड़काऊ बयान दे रहा है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को संसद में कहा था कि कश्मीर पर लिये गये  फैसलों के बाद भारत में पुलवामा जैसे हमले हो सकते हैं. यहां तक कहा कि इससे परमाणु हथियार से संपन्न दोनों पड़ोसियों के बीच मौजूदा तनाव में युद्ध जैसी स्थिति पैदा हो सकती है. पाकिस्तान सरकार में मंत्री फवाद चौधरी तो इमरान से भी एक कदम आगे बढ़ते हुए बुधवार को कहा कि पाकिस्तान को भारत के खिलाफ युद्ध से नहीं डरना चाहिए. चौधरी ने कहा कि पाकिस्तान को अपमान और युद्ध में से किसी एक को चुनना होगा.

इसे भी पढ़ें  राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल कश्मीरियों के साथ शोपियां की गलियों में घूम रहे हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like