न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का पटना में निधन, लंबे समय से थे बीमार

आइंस्टीन के सिद्धांत को दी थी चुनौती 

738

Patna: महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का निधन हो गया. गुरुवार को पटना के पीएमसीएच अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांसें ली. वह 74 साल के थे और लंबे समय से बीमार थे. इस खबर से पूरा बिहार गमगीन है.

वशिष्ठ नारायण सिंह करीब 40 साल की उम्र से सिजोफ्रेनिया नाम की बीमारी से ग्रसित थे. वशिष्ठ नाराण सिंह अपने परिजनों के साथ पटना के कुल्हरिया कंपलेक्स में रहते थे.

JMM

 

इसे भी पढ़ें- ‘सुप्रीम’ फैसलों का दिन: सबरीमाला, राफेल और राहुल के मामले में SC सुनायेगा फैसला

सीएम नीतीश कुमार ने दी श्रद्धांजलि

उनकी बीमारी के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री से लेकर केंद्रीय मंत्री तक उन्हें देखने गये थे. वहीं गुरुवार को निधन के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरा शोक व्यक्त किया है.

Related Posts

सीएम नीतीश ने कहा कि वशिष्ठ बाबू का निधन बहुत दुखद है. उन्होंने अपने ज्ञान से पूरे बिहार का नाम रौशन किया है. मैं वशिष्ठ बाबू के जाने से मर्माहत हूं, मैं उनको श्रद्धांजलि देता हूं.

वहीं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भी शोक जताया है. उन्होंने कहा कि वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन से समाज को अपूरणीय क्षति हुई है.

इसे भी पढ़ें- बिहार: नालंदा व रोहतास जिलों में अलग-अलग हादसे में आठ की मौत, 11 घायल

आइंस्टीन के सिद्धांत को दी थी चुनौती 

आरा के बसंतपुर के रहने वाले वशिष्ठ नारायण सिंह बचपन से होनहार थे. उन्होंने मैथ से जुड़े कई फॉर्मूलों पर रिसर्च भी किया था. कभी उन्होंने आइंस्टीन के सिद्धांत को चुनौती दी थी.

कहा जाता है कि उनके सबसे अच्छे दोस्त कॉपी और पेंसिल थे. उनके लिए तीन-चार दिन में एक बार कॉपी, पेंसिल लानी पड़ती थी. वह पूरा वक्त पढ़ते हुए बीताते थे.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like