न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मंदसौर गैंगरेप में दरिंदों को फांसी, इस साल बच्चियों से रेप मामलों में 13वीं फांसी

दसौर गैंगरेप के दोषियों को सजा-ए-मौत के साथ वर्ष 2018 के दौरान एमपी में 15वीं फांसी की सजा दी गयी है.

279

Indore : मंदसौर गैंगरेप के दोषियों को सजा-ए-मौत के साथ वर्ष 2018 के दौरान एमपी में 15वीं फांसी की सजा दी गयी है. बता दें कि मध्यप्रदेश में इस साल बच्चियों से रेप और यौन अपराधों के मामलों में अदालत ने 13वीं बार मौत की सजा सुनाई है. इससे पूर्व 16 अगस्त को शादीशुदा महिला से रेप और उसकी हत्या के मामले में मौत की सजा दी गयी थी. मध्य प्रदेश के मंदसौर में बच्ची के साथ गैंगरेप के दोषियों को सेशंस कोर्ट ने मंगलवार, 21 अगस्त को मौत की सजा सुनाई.  मध्य प्रदेश में इस साल अप्रैल माह में बच्चियों से रेप को लेकर  नया कानून लागू किया गया है.

नये कानून के तहत 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप के मामलों में फांसी की सजा का प्रावधान है. अप्रैल 2018 से अब तक आठ लोगों को बच्चियों से रेप के जुर्म में फांसी की सजा दी गयी है. अकेले अगस्त माह में ही छह मामलों में मौत की सजा सुनाई गयी है.

एक माह में छह डेथ पेनल्टी एक रेकॉर्ड, सीएम ने स्वागत किया

Trade Friends

लोक अभियोजन महानिदेशक राजेंद्र कुमार के अनुसार एक माह में छह डेथ पेनल्टी एक रेकॉर्ड है  महानिदेशक ने इस सफलता का श्रेय अभियोजन पक्ष और पुलिस को दिया. मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंदसौर गैंगरेप केस में कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कोर्ट के प्रति आभार व्यक्त किया. कहा कि इन नरपिशाचों के लिए इस दुनिया में कोई जगह नहीं है.  ऐसे मामलों में फांसी की सजा से कम कुछ भी नहीं होना चाहिए.  बेटी को न्याय दिलाने के लिए पुलिस, लोक अभियोजक, विशेषज्ञों की टीम ने सराहनीय कार्य किया है .

इसे भी पढ़ेंःन्यूजविंग इंपैक्टः महिला अफसर को परेशान करने का मामला, हजारीबाग DC से मांगी गई जानकारी 

निशा गुप्ता ने दोषी आसिफ और इरफान को सजा सुनाई

विशेष जज पॉक्सो निशा गुप्ता ने गैंगरेप के मामले में दोषी आसिफ और इरफान को मौत की सजा सुनाई.  26 जून को दोनों ने बच्ची को उसके स्कूल से अगवा कर लिया था.  इसके बाद वे बच्ची को किला रोड के पास एक सुनसान इलाके में ले गये.  रेप के साथ ही दोनों दरिदों ने बच्ची का गला काटकर उसे मरणासन्न हालत में छोड़ दिया था,लेकिन अस्पताल में चले लंबे इलाज के बाद मासूम की जान बचा ली गयी.  सीसीटीवी फुटेज की जांच करने के बाद पुलिस ने वारदात के अगले दिन इरफान को गिरफ्तार किया था, वहीं आसिफ को 29 जून को पकड़ा गया .

इसे भी पढ़ेंःगिरिडीह : तीन दिनों बाद भी नहीं मिला जुबैदा और उसके तीन बच्चों के हत्यारों का सुराग

आईपीसी की नयी धारा से मिली सजा

आरोपी आसिफ और इरफान पर पॉक्सो ऐक्ट और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत अपहरण, गैंगरेप और हत्या की कोशिश करने का केस दर्ज किया गया.  दोनों को 12 साल से कम उम्र के बच्चों से रेप के मामले में मौत की सजा वाली आईपीसी की धारा 376 AB के तहत दोषी ठहराया गया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like