न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

HC ने दिया आदेश- ‘हज कमेटी के लिए पूरक शपथ पत्र दिसंबर तक दाखिल करे सरकार’

60

Ranchi: हज कमेटी गठन संबधित मामले की सुनवाई बुधवार को उच्च न्यायालय में की गयी. जिसमें सरकार की ओर से दायर किये गये शपथ पर सदस्यों के मनोनयन संबधी मामले का उल्लेख नहीं किया गया था. इस पर जस्टिस राजेश शंकर ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि हज अधिनियम 2002 के सेक्शन 18 के तहत कोटीवार सदस्यों के मनोनियन और आर्हता के साथ पूरक शपथ पत्र दिसम्बर में सरकार जवाब दाखिल करें. याचिकाकर्ता एस अली की ओर से वरीय अधिवक्ता मोख्तार खान ने कहा कि सरकार ने हज अधिनियम 2002 का उल्लंघन करते हुए जैसे-तैसे कमेटी का गठन किया गया है. बता दें कि याचिकाकर्ता एस अली की ओर से सरकार की ओर से जुलाई 2018 में निकाले गये अधिसूचना को रद्द करने साथ ही हज अधिनियम 2002 निर्देश अनुसार हज कमेटी के सदस्यों के मनोनय के लिए हाई कोर्ट में याचिका दायर की गयी है.

इसे भी पढ़ें: किसकी वजह से हाइकोर्ट भवन निर्माण में हुई अनियमितता, कमेटी करेगी जांच, विभाग ने सीएम से मांगा अप्रूवल 

JMM

नहीं थे पर्याप्त सदस्य

याचिकाकर्ता एस अली ने जानकारी दी कि सरकार के आदेश पर कल्याण विभाग की ओर से हज कमेटी के गठन के लिये 15 सदस्यों को मनोनित किया गया था. जिसकी अधिसूचना जुलाई 2018 में निकाली गयी. इस अधिसूचना के तहत सांसद, विधायक कोटे में तीन के बजाय दो सदस्य. वहीं वार्ड कोटे में दो वार्ड सदस्य, लोक प्रशासन, वित्तीय, शिक्षा, सांस्कृतिक, सामाजिक कार्य कोटे में पांच के बजाय सात सदस्यों का मनोनय किया गया. एस अली ने बताया कि इस अधिसूचना में हज अधिनियम 2002 का पालन नहीं किया गया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like