न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

केरल तट पर हाई अलर्ट, इस्लामिक स्टेट के 15 आतंकवादियों के नौकाओं पर आने की खबर

इस्लामिक स्टेट के संदिग्ध 15 आतंकवादियों के नौकाओं पर सवार होकर श्रीलंका से लक्षद्वीप के लिए रवाना होने की खुफिया रिपोर्ट पर केरल तट पर हाई अलर्ट

153

Thiruvanthapuram :  केरल तट पर हाई अलर्ट है. बता दें कि इस्लामिक स्टेट के संदिग्ध 15 आतंकवादियों के नौकाओं पर सवार होकर कथित रूप से श्रीलंका से लक्षद्वीप के लिए रवाना होने की खुफिया रिपोर्ट पर केंद्र सरकार ने केरल तट पर हाई अलर्ट जारी कर दिया है.

पुलिस विभाग में उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार तटीय पुलिस थानों और तटीय जिला पुलिस प्रमुखों को सतर्क कर दिया गया है. भारतीय कोस्‍ट गार्ड ने लक्षद्वीप व मिनिकॉय द्वीप के आसपास और श्रीलंका सीमा पर समुद्री जहाजों और खोजी विमानों को तैनात कर दिया है.

पुलिस के एक शीर्ष सूत्र ने बताया, इस तरह के अलर्ट आम हैं, लेकिन इस बार हमारे पास संख्या को लेकर खास सूचना है. ऐसी किसी भी संदिग्ध नौका के दिखने की स्थिति में हमने तटीय पुलिस थानों और जिला पुलिस प्रमुखों को सतर्क रहने को कहा है. तटीय पुलिस विभाग ने कहा कि वे 23 मई से ही अलर्ट पर हैं.

इसे भी पढ़ें-  पश्चिम बंगाल : भाजपा के उभरने से परेशान ममता बनर्जी कड़े फैसले लेने को तैयार, 31 को समीक्षा करेंगी
Trade Friends

आईएसआईएस के आतंकवादी राज्य में हमलों की साजिश रच रहे हैं

इसी दिन उन्हें श्रीलंका से सूचना मिली थी. तटीय विभाग के सूत्रों ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा, श्रीलंका में हमले की घटना के बाद से हम लोग सतर्क हैं. हमने मछली पकड़ने वाली नौकाओं के मालिकों और समुद्र में जाने वाले अन्य लोगों से किसी भी संदिग्ध गतिविधि को लेकर सतर्क रहने को कहा है.  श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के बाद से केरल हाई अलर्ट पर है. एनआईए की जांच में यह खुलासा हुआ था कि आईएसआईएस के आतंकवादी राज्य में हमलों की साजिश रच रहे हैं.

खुफिया एजेंसियों का मानना है कि अब भी केरल से कई लोगों के आईएसआईएस के साथ संबंध हैं.हाल में इराक और सीरिया से आईएसआईएस का सफाया किया जा चुका है.श्रीलंका में 21 अप्रैल को आठ सिलसिलेवार धमाकों में 250 से अधिक लोगों की मौत हो गयी थी. इस्लामिक स्टेट ने इस घटना की जिम्मेदारी ली थी.

इसे भी पढ़ें- दस सालों में 44 प्रतिशत बढ़ी करोड़पति व आपराधिक पृष्ठभूमि वाले सांसदों की संख्या

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like