न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

WB : स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर हाइकोर्ट सख्त, सरकार से मांगा जवाब

कोलकाता के दो बड़े स्कूलों में बच्चियों की आत्महत्या के मामले सामने आने पर कोर्ट ने लिया स्वतः संज्ञान

493

Kolkata : बीते सप्ताह में कोलकाता के दो बड़े स्कूलों में शौचालय के अंदर बच्चियों की आत्महत्या और आत्महत्या के प्रयास का मामला प्रकाश में आने के बाद कलकत्ता हाइकोर्ट ने मामले में स्वतः संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार से रिपोर्ट तलब की है.

हाइकोर्ट ने सरकार से यह स्पष्ट करने को कहा है कि उसने स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के लिए कौन से कदम उठाए हैं.

Jmm 2

इसे भी पढ़ें : बंगाल विधानसभा में संसदीय कार्यमंत्री के धमकी भरे बयान पर भड़का विपक्ष

माता-पिता को भी पेश करने का निर्देश

दक्षिण कोलकाता के मशहूर जीडी बिरला स्कूल में दसवीं की छात्रा कृतिका पाल की हाथ की नस काटकर आत्महत्या के मामले में राज्य सरकार से हलफनामा के जरिये रिपोर्ट पेश करने का निर्देश जस्टिस प्रतीक प्रकाश बनर्जी ने दिया है.

इसके साथ ही बच्ची के माता-पिता को भी कोर्ट में पेश करने का निर्देश दिया गया है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

जस्टिस बनर्जी ने कहा कि एक बच्ची तीन महीने तक तनावग्रस्त रही. सो नहीं पायी. मां-बाप यह नहीं समझ सके कि उसकी अवहेलना घातक हो सकती है? आखिर ऐसा क्यों हुआ? इस बारे में जानकारी लेनी जरूरी है? इस तरह से बच्चों को तनावपूर्ण माहौल में धकेलना नहीं चलेगा.

इसके साथ ही उन्होंने राज्य सरकार को निर्देश देते हुए कहा कि कृतिका पाल की आत्महत्या के मामले में पुलिस ने क्या कुछ कार्रवाई की है, उसकी भी रिपोर्ट हलफनामा के जरिये कोर्ट में पेश की जाये.

इसे भी पढ़ें : भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने कसा तंज, ‘गठबंधन से नहीं होगी ममता बनर्जी की रक्षा’

2017 में हुई उत्पीड़न की घटनाओं का जिक्र

जस्टिस ने इस बात का जिक्र किया कि 2017 में विभिन्न स्कूलों में बच्चों के साथ उत्पीड़न की घटनाएं हुई थीं. उसके बाद राज्य सरकार ने न्यायालय को आश्वस्त किया था कि स्कूलों के अंदर बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कई ठोस कदम उठाये जायेंगे. अब राज्य सरकार हलफनामा के जरिए यह बताये कि क्या कुछ कदम उठाए गए हैं.

स्कूलों के शौचालयों में बच्चों की सुरक्षा संबंधी निगरानी के लिए भी हाइकोर्ट ने कुछ परामर्श दिया है.

कोलकाता के मशहूर स्कूल ला मार्टिनियर में सुरक्षा संबंधी सीआइएसएफ की रिपोर्ट को लेकर भी हाइकोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है. स्कूल की प्रिंसिपल को नोटिस भेजने का निर्देश दिया गया है. 22 जुलाई को अगली सुनवाई होगी.

इसे भी पढ़ें : लूटकांड में कंपनी के पूर्व स्टाफ समेत दो गिरफ्तार, डेढ़ लाख कैश व पिस्तौल बरामद  

बच्ची ने काट ली थी हाथ की नस

उल्लेखनीय है कि जीडी बिरला स्कूल में अपने हाथ की नस काटकर कृतिका पाल नाम की एक मेधावी छात्रा ने आत्महत्या कर ली थी. उसने सुसाइड नोट में लिखा था कि तीन महीने से वह सो नहीं पायी थी. मेरे जाने के बाद आप समझ लेना कि मैं इस दुनिया में कभी थी ही नहीं.

इसी तरह से गत मंगलवार को भी बालीगंज शिक्षा सदन स्कूल में हाथ की नस काटकर शौचालय में 10वीं की छात्रा ने आत्महत्या की कोशिश की थी.

इसे भी पढ़ें : PMCH में वृद्धा की मौत पर हंगामा, परिजन बोले- पैसे नहीं दिये तो गलत इंजेक्शन लगा दिया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like