न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नक्सलियों के खात्मे के लिए गृह मंत्री की नक्सल प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ बैठक,  देश के 30 नक्सल प्रभावित जिलों में झारखंड के 13 जिले

1,637

Ranchi :  नक्सलियों के खात्मे के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सोमवार को नक्सल प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर रहे हैं. यह बैठक दिल्ली के विज्ञान भवन में जारी है. गृह मंत्री अमित शाह पहली बार नक्सल मुद्दे पर बैठक कर रहे हैं.

इस बैठक में 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों और शीर्ष लेवल के अधिकारियों बुलाया गया था. इस बैठक में झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास,  मुख्य सचिव डॉ डीके तिवारी व डीजीपी कमल नयन चौबे भी मौजूद हैं. बता देश में 30 जिले अति नक्सल प्रभावित श्रेणी में आते हैं जिनमें झारखंड के 13 जिले शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंः हांगकांग में चीन के खिलाफ रैली, हिंसक प्रदर्शन, पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े,  36  गिरफ्तार  

Trade Friends

ममता बनर्जी ने बैठक में शामिल होने से किया इनकार

मिली जानकारी के अनुसार बैठक में झारखंड उत्तर प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, मध्य प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों को बुलाया गया है. सभी राज्यों के सीएम इस बैठक में शामिल हो रहे हैं. केवल पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया.

गृह मंत्री अमित शाह नक्सल प्रभावित इलाकों में विकास कार्यों की समीक्षा करेंगे. माना जा रहा हैं कि देश के कुछ हिस्सों में जहां नक्सली गतिविधियां ज्यादा हैं, वहां के लिए बड़ी रणनीति तैयार की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंः कोडरमा : महिला को निर्वस्त्र कर घुमाने के मामले में 11 पर FIR दर्ज, अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं

 अति नक्सल प्रभावित जिले की श्रेणी में है झारखंड के 13 जिले

झारखंड में भले नक्सली कमजोर पड़ गये हैं. और झारखंड पुलिस लगातार नक्सलियों के खात्मे का अभियान चला रही है. इसके बावजूद देश के 30 नक्सल प्रभावित जिलों में 13 जिले झारखंड के हैं, जो सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिलों की सूची में हैं. सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिले के मामले में झारखंड पहले स्थान पर है, तो वहीं छत्तीसगढ़ के 8 जिले सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिलों के साथ दूसरे स्थान पर है.

झारखंड के सबसे ज्यादा जिले सर्वाधिक नक्सल प्रभावित

झारखंड के सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिलों में खूंटी, गुमला, लातेहार, सिमडेगा, पश्चिम सिंहभूम, रांची, दुमका, गिरिडीह, पलामू, गढ़वा, चतरा, लोहरदगा और बोकारो हैं. सरायकेला,पूर्वी सिंहभूम, हजारीबाग,धनबाद, गोड्डा भी नक्सलवाद की समस्या से जूझ रहे हैं. वहीं कम संवदेनशील जिलों में कोडरमा,जामताड़ा, पाकुड़ और रामगढ़ हैं. जबकि देवघर-साहेबगंज नक्सल प्रभावित नहीं माना गया है.

दूसरे राज्यों के सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिले

छत्तीसगढ़ में सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिले बस्तर, बीजापुर, सुकमा, दंतेवाड़ा, कांकेर, नारायणपुर, कोंडागांव और राज नंदगांव हैं. जबकि बिहार का औरंगाबाद, गया, जमुई, लखीसराय सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिलों की सूची में शामिल है. उड़ीसा के सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिला मलकानगिरी, कोरापुट,नुआपदा, बोलांगीर और आंध्र प्रदेश का खम्मम जिला है.

इसे भी पढ़ेंः NRC में नाम दर्ज करवाने के लिए मुसलमानों से ज्यादा हिंदुओं ने किया फर्जीवाड़ा, RSS ने किया इनकार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like