न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हजारीबाग के बड़कागांव व आंगो थाना क्षेत्र से शुरू हुआ बड़े स्तर पर अवैध कोयले का कारोबार

आंगो थाना क्षेत्र से मुन्ना सिंह, अर्जुन सिंह नामक व्यक्ति हर दिन निकाल रहा 10-15 ट्रक अवैध कोयला

712
  • बड़कागांव इलाके से पप्पु सिंह नामक व्यक्ति कर रहा अवैध कारोबार

Ranchi :  आचारा संहिता लगने के साथ ही राज्य के कोयला क्षेत्र में चहलकदमी बढ़ गयी है. लातेहार, रामगढ़,  बोकारो, गिरिडीह, धनबाद, पाकुड़, दुमका, जामताड़ा व गोड्डा जिला में अवैध कोयला के कारोबारियों और पुलिस अधिकारियों के बीच संपर्क बढ़ने की खबरें भी आ रही है. इस बीच सूचना मिली है कि हजारीबाग के कुछ थाना क्षेत्रों में अवैध कोयला का कारोबार शुरु हो गया है. हालांकि पुलिस के सीनियर अधिकारी आफ रिकॉर्ड बातचीत में इसका खंडन करते हैं.

इसे भी पढ़ें – लोकसभा चुनाव लड़नेवाले उम्मीदवारों को चेक लिस्ट भरने के साथ देना होगा शपथ पत्र

Trade Friends

अवैध कोयला चरही और घाटो इलाके से लाया जाता है

सूत्रों ने बताया कि हजारीबाग में दो इलाकों में कोयले का अवैध कारोबार शुरू हो गया है. हजारीबाग के आंगो थाना (चुरचू थाना क्षेत्र से कट कर बना है) क्षेत्र में कोयला जमा किया जाता है. अवैध कोयला चरही और घाटो इलाके से लाया जाता है. फिर उसे ईंट-भट्ठों या बाहर के बाजार में ट्रक के जरिये पहुंचा दिया जाता है. यह कारोबार बेरोक-टोक चल रहा है. हर दिन 10 से 15 ट्रक अवैध कोयला का कारोबार चल रहा है. इस काम को मुन्ना सिंह और अर्जुन सिंह नामक व्यक्ति संचालित कर रहा है.

बताता है पुलिस अफसर का रिश्तेदार

हजारीबाग के बड़कागांव इलाके से भी अवैध कोयला का कारोबार शुरू होने की खबर मिल रही है. वहां पर अवैध कोयला कारोबार का संचालन पप्पु सिंह नामक व्यक्ति कर रहा है. पप्पु सिंह खुद को एक पुलिस अधिकारी का रिश्तेदार बताता है. जानकारी के मुताबिक पप्पु सिंह के द्वारा केरेडारी के बुंडू, गोंदलपुरा इलाके से अवैध कोयला का कारोबार किया जा रहा है. पुलिस कार्रवाई नहीं करती. पिछले दिनों वन विभाग ने कोयला जब्त की थी. जिसके बाद इस बात की पुष्टि हो गयी थी कि इलाके में अवैध कोयला कारोबार चल रहा है.

इसे भी पढ़ें – हजारीबागः निजी अस्पताल में इलाज के दौरान महिला की मौत, बवाल

लातेहार में भी अवैध कोयला का खेल है जारी

इधर, लातेहार से भी हर दिन 15-20 ट्रक अवैध कोयला का कारोबार किये जाने की सूचना मिल रही है. लातेहार में एसपी के कड़े रुख के कारण कोयला का कारोबार बंद कर दिया जाता है और कुछ दिन बाद दुबारा शुरू हो जाता है. इसमें सीसीएल के अधिकारी, कोल ट्रांसपोर्टर और स्थानीय लोडर की भूमिका है.

सूत्रों ने बताया कि सीसीएल के आम्रपाली व मगध कोल परियोजना से ही ट्रकों व डंपर में चलान से अधिक कोयला लोड कर दिया जाता है. फिर उसे लातेहार के बालूमाथ थाना क्षेत्र के बारियातू इलाके के आरा, चमातू व अमरवाडीह में उतारकर जमा किया जाता है. यह काम हर दिन होता है. रात के अंधेरे में जमा किये गये कोयले को ट्रकों के जरिये बाहर भेज दिया जाता है. इस काम में ट्रांसपोर्टर, लोडर और सीसीएल के अधिकारी शामिल हैं.

जामताड़ा जिला के रास्ते बंगाल का कोयला भेजा जा रहा है बिहार

एक सूचना जामताड़ा से भी है. पश्चिम बंगाल स्थित इसीएल के खदानों से अवैध तरीके से निकाले गये कोयला को ट्रकों के जरिये बिहार पहुंचाया जा रहा है. पहले कोयला जीटी रोड से पार कराया जाता था. अब जामताड़ा जिला से होते हुए पार कराया जा रहा है. पुलिस के अफसरों को इसके बदले मोटी रकम मिलती है. हर दिन करीब 30 ट्रक अवैध कोयला बिहार में ईंट-भट्ठे के मालिकों तक पहुंचाया जा रहा है. इस अवैध धंधे को जगदीश, अल्ला रखा, नागेंद्र सिंह नाम के व्यक्ति संचालित करते हैं. इन लोगों के द्वारा कुछ दिन धनबाद जिले के जीटी रोड से तो कुछ दिन जामताड़ा जिला के रास्ते पश्चिम बंगाल का अवैध कोयला निकाला जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – महतो फोल्डर में होने की वजह से बढ़ी रामटहल चौधरी की मुश्किल, रांची से प्रबल दावेदारों में अर्जुन मुंडा भी शामिल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like