न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Jharkhand में सबसे अधिक रांची व जमशेदपुर में आपराधिक गैंग सक्रिय, कई सरगना जेल से कर रहे संचालन

734

Ranchi : झारखंड में पुलिस नक्सलियों के अलावा संगठित आपराधिक गिरोहों से भी परेशान है. राज्य में सबसे अधिक राजधानी रांची और जमशेदपुर में संगठित आपराधिक गिरोह सक्रिय हैं.

इन दोनों जिलों में आठ-आठ संगठित आपराधिक गिरोह सक्रिय हैं. कई गिरोहों के सरगना जेल में बंद रहकर तो कई जेल से बाहर रहकर ही गिरोह का संचालन कर रहे हैं.

बता दें कि जमशेदपुर और हजारीबाग में सक्रिय गैंग में करीब 250 लोगों से अधिक अपराधी जुड़े हुए हैं. अपराधी अनिल शर्मा, फहीम खान, कुणाल सिंह, सुजीत सिन्हा आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं, मगर रांची सहित अन्य जिलों में इन अपराधियों का दबदबा कायम है.

Trade Friends

जमशेदपुर आसपास क्षेत्र में सक्रिय पांच लाख का इनामी गैंगस्टर अखिलेश सिंह जेल में है. मगर अभी सात गैंगस्टर अमन श्रीवास्तव, लखन सिंह, जयनाथ साहू, डेनियल पाल, विजय बिरूली, धनंजय प्रधान, राजेश सिंह और चंदन सोनार फरार हैं.

ये सभी अपराधी बाहर से ही आपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : #DoubleEngine की सरकार में बेबस छात्र(3)- चार साल तक नहीं ले सकी अकाउंट अफसर की परीक्षा, पांचवे साल किया रद्द

छोटे-बड़े आपराधिक गैंग मांग रहे हैं रंगदारी

झारखंड के रांची, बोकारो, रामगढ़, धनबाद और जमशेदपुर के अलावा राज्य अन्य जिलों के बड़े व्यवसायियों, कोयला कारोबारियों एवं रेललाइन, सड़क और पुल निर्माण करने वाली कंपनियों से छोटे और बड़े अपराधियों के द्वारा रंगदारी की मांग की जा रही है और इसकी वसूली भी की जा रही है.

रांची सहित राज्य के अन्य जिलों से भी हर माह मोटी रंगदारी उठा रहे हैं. आपराधिक संगठन सिम बदल-बदल कर रंगदारी मांग रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : #JanAashirwadYatra : नक्सल हिंसा में मारे गये शख्स के बेटे ने नौकरी मांगी, CM बोले- फोटो खिंचवाने के लिए कर रहा प्रदर्शन

झारखंड में जेल के अंदर से अपराधी मांग रहे रंगदारी

झारखंड के बड़े अपराधी जेल में बंद रह कर भी सक्रिय हैं. जेल में होते हुए भी रंगदारी मांग रहे हैं. ऐसे कई अपराधी हैं, जिन पर पुलिस की स्पेशल ब्रांच ने नजर रखी है.

मिली जानकारी मुताबिक, दुमका जेल में बंद अनिल शर्मा, रामगढ़ जेल में बंद सुहेल अहमद, रांची जेल में बंद अपराधी लवकुश शर्मा, पलामू जिले में बंद विकास तिवारी, जमशेदपुर जेल में बंद अखिलेश सिंह का शूटर कन्हैया सिंह और जमशेदपुर जेल में बंद कुख्यात अपराधी सुजीत सिन्हा समेत दर्जन भर अपराधी जेल से ही रंगदारी मांग रहे हैं.

जेल में जैमर लगे होने के बावजूद अपराधी इसका गलत इस्तेमाल करके आराम से वसूली कर रहे हैं और रंगदारी नहीं देने पर हत्या की साजिश जेल में बैठे-बैठे रच रहे हैं.

SGJ Jewellers

सीआइडी और स्पेशल ब्रांच संगठित आपराधिक गिरोह के बारे में जुटा रही है जानकारी

सीआइडी और स्पेशल ब्रांच संगठित अपराधिक गिरोह सहित उनके गैंग के गुर्गों की पूरी जानकारी जुटा रही है जिसकी विस्तृत रिपोर्ट ईडी को भेजी जायेगी.

रिपोर्ट में अपराधी का इतिहास, सक्रिय क्षेत्र, गैंग के गुर्गे, संपत्ति और रंगदारी वसूली की पूरी जानकारी रहेगी.अबतक पुलिस की दोनों जांच एजेंसियां प्रदेश में सक्रिय आपराधिक गिरोहों की सूची तैयार कर रही है.

kanak_mandir

सीआइडी ने अपराधियों की संपत्ति का ब्यौरा जिलों से मांगा है, ताकि उनकी संपत्ति जब्त की जा सके. बताया जा रहा है कि प्रदेश के 10 बड़े अपराधियों के पास 500 करोड़ से ज्यादा की चल-अचल संपत्ति होने की जानकारी मिली है.

किस जिले में कौन-कौन से गैंग हैं सक्रिय

जमशेदपुर :- अखिलेश सिंह गिरोह, राजा शर्मा व गणेश सिंह गिरोह, अभिषेक सिंह गिरोह, पंकज दुबे गिरोह, सुजीत कुमार शर्मा गिरोह, अमरनाथ सिंह गिरोह, गुड्डू पांडेय गिरोह और अंजन कुमार शुक्ला गिरोह सक्रिय हैं.

खूंटी :- पन्ना लाल महतो गिरोह और जयनाथ साहू गिरोह.

रांची :- अनिल शर्मा, लवकुश शर्मा, संदीप थापा, लखन सिंह व गेंदा सिंह, नरेश सिंह बुतरू, धीरज जालान, राजीव कुमार मिश्रा और निक्की शर्मा के गिरोह सक्रिय है.

चाईबासा :- डेनियल पाल और विजयी बिरुली के गिरोह.

बोकारो :- अमरेंद्र तिवारी, शाहनवाज खान, राजेश सिंह, आरजू मल्लिक, चंदन सोनार के गिरोह.

धनबाद :- फहीम खान,मृतक सूरज सिंह के गिरोह है

पलामू :- कुणाल सिंह, डब्लू सिंह, सुजीत सिन्हा और विकास दुबे का गिरोह है.

हजारीबाग :- अमन श्रीवास्तव, विकास तिवारी गिरोह

जामताड़ा :- फौजीदारी उर्फ शकीर गिरोह

देवघर :- परमवीर यादव गिरोह

इसे भी पढ़ें : फोटो फीचरः बोकारो जेनरल अस्पताल- बाहर से टिप-टॉप, अंदर से मोकामा घाट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like