न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वोटिंग के बाद रोड शो समेत दो मामलों में पीएम मोदी को चुनाव आयोग की क्लीनचिट

आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के अबतक आठ मामलों में प्रधानमंत्री को चुनाव आयोग ने बताया पाक साफ

718

New Delhi: आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के दो और मामलों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनाव आयोग ने क्लीनचिट दी है. इसमें 23 अप्रैल को अहमदाबाद में वोटिंग के बाद किये गये रोड शो का मामला भी है. साथ ही कर्नाटक के चित्रदुर्ग में नौ अप्रैल को दिये गये भाषण पर भी आयोग ने राहत दी है.

इसे भी पढ़ेंःEVM के साथ VVPAT पर्चियों का मिलान: SC में विपक्ष की याचिका पर सुनवाई आज

JMM

अबतक आठ मामलों में राहत

चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आदर्श आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत के आठ मामलों में अब तक राहत दी है. सोमवार को दो और मामलों में क्लीनचिट देते हुए इसे आचार संहिता का उल्लंघन नहीं माना है.

इन दोनों फैसलों के साथ ही मोदी को अब तक आठ मामलों में क्लीनचिट मिल चुकी है. इससे पहले चुनाव आयोग मोदी के छह भाषणों, शाह के दो भाषणों और कांग्रेस प्रमुख के एक भाषण को सही ठहरा चुका है.

रोड शो को लेकर कांग्रेस ने की थी शिकायत

गौरतलब है कि कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि पीएम मोदी ने 23 अप्रैल को अहमदाबाद में रोड शो किया. जो आचार संहिता का उल्लंघन है.

कांग्रेस यह आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग में शिकायत की थी कि मोदी ने वोट डालने के बाद आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए रोडशो निकाला और राजनीतिक टिप्पणी की.

Related Posts

#unnaokibeti: पीड़िता के परिवार ने कहा- CM योगी के आने तक नहीं होगा अंतिम संस्कार

रविवार सुबह 10 बजे अंतिस संस्कार की खबर है. वहीं रेप पीड़िता के परिवार ने कहा है कि शव को दफनाया जायेगा न कि जलाया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःवित्त मंत्रालय ने श्रम से मांगा जवाबः घाटा होने पर कहां से देंगे PF पर बढ़ा ब्याज

लेकिन सूत्रों के अनुसार, आयोग इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि मोदी ने आदर्श आचार संहिता और चुनाव कानून का कोई उल्लंघन नहीं किया.

साथ ही सूत्रों ने बताया कि आयोग ने मोदी को कर्नाटक के चित्रदुर्ग में नौ अप्रैल को उनके द्वारा दिये गये भाषण के सिलसिले में भी पाक साफ करार दिया.

चित्रदुर्ग में उन्होंने अपने चुनावी भाषण में नये मतदाताओं से अपना वोट बालाकोट हवाई हमले के नायकों को समर्पित करने का कथित रूप से आह्वान किया था.

उसी दिन उन्होंने महाराष्ट्र में लातूर जिले के औसा में भी ऐसी ही अपील की थी. आयाोग ने इस मामले में भी उन्हें पहले ही क्लीन चिट दी थी. लेकिन चुनाव आयुक्तों में एक ने इस मामले में असहमति

हालांकि, आयोग ने अब तक अपने इन दोनों फैसलों को सार्वजनिक नहीं किया है. लेकिन समझा जाता है कि गुजरात के निर्वाचन कार्यालय का मानना है कि प्रथम दृष्टया कोई उल्लंघन नहीं पाया गया.

इसे भी पढ़ेंःदिल्ली : दो सीटों पर आप को मिला सपा का साथ, बॉलीवुड स्टार्स भी करेंगे प्रचार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like