न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कुपोषण के कारण भारतीय बच्चे बौनेपन के सबसे ज्यादा शिकार, मानदंड मापने की समीक्षा

बिहार में पांच साल से कम उम्र के 48.3 प्रतिशत बच्चे बौनापन के शिकार हैं.

544

Patna: एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सबसे ज्यादा बच्चे बौनापन से ग्रस्ति हैं. और बात करें बिहार की तो यहां पांच साल से कम उम्र के 48.3 प्रतिशत बच्चे बौनापन के शिकार हैं.

गौरतलब है कि बौनापन ऐसी समस्या जिसमें पोषण की कमी, बार-बार संक्रमण होने आदि से बच्चों की लंबाई सामान्य से बहुत कम रह जाती है. फिलहाल इसे मापने के लिए बच्चों की लंबाई का सहारा लिया जाता है.

इसे भी पढ़ेंः#HowdyModi में मोदी के साथ ट्रंप साझा करेंगे मंच, 50,000 से अधिक भारतीय-अमेरिकी को करेंगे संबोधित

Trade Friends

ग्लोबल न्यूट्रिशियन रिपोर्ट, 2018 के अनुसार बौनापन से ग्रस्त सबसे ज्यादा 4.66 करोड़ बच्चे भारत में हैं. इसके बाद नाइजीरिया में 1.39 करोड़ और पाकिस्तान में 1.07 करोड़ बच्चे बौनापन का शिकार हैं. भारत में 2.55 करोड़ बच्चे कुपोषित हैं, जबकि नाइजीरिया व इंडोनेशिया में इनकी संख्या क्रमश: 34 व 33 लाख है.

सरकार बच्चों में बौनापन को मापने वाले मानदंडों की समीक्षा कर रही है और उसका भारतीयों के मानव विज्ञान के मुताबिक ‘भारतीयकरण’ करने का तरीका खोज रही है.

इसे भी पढ़ेंः58,000 करोड़ कर्ज के तले दबी #AirIndia को 2018-19 में 8,400 करोड़ का घाटा

बिहार में 48.3 प्रतिशत बच्चे शिकार

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-4 (एनएफएचएस-4) के अनुसार, पांच साल से कम उम्र के 38.4 प्रतिशत बच्चों में बौनापन है, यानि उनकी लंबाई उनकी उम्र के मुकाबले कम है. वहीं 21 प्रतिशत बच्चे ऐसे हैं, जिनका वजन उनकी लंबाई के अनुपात में कम है.

सर्वेक्षण के अनुसार बिहार में पांच साल से कम उम्र के 48.3 प्रतिशत बच्चे बौनापन के शिकार हैं. आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि देश के विभिन्न हिस्सों में भारतीय बच्चों का मानव संरचना विज्ञान बदलता है और ऐसे में भारत जैसे विविधतापूर्ण देश में बच्चों में बौनापन मापने का एक ही मानदंड नहीं हो सकता है.

उन्होंने बताया कि सरकार हार्वर्ड टी एच चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और विश्व स्वास्थ्य संगठन की मदद से यह जानने का प्रयास कर रही है कि बौनापन को मापने वाले अंतरराष्ट्रीय मानदंडों का भारतीयकरण कैसे किया जाए.

इसे भी पढ़ेंः#Dhullu तेरे कारण : व्यवसायी का आरोप-  ढुल्लू जहां देखते हैं खाली जमीन, उस पर बाउंड्री बना कर लेते हैं कब्जा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like