न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#INXMediaCase : पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर अब सुनवाई 23 को,  तिहाड़ में ही रहेंगे चिदंबरम, हाई कोर्ट का CBI को नोटिस

पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर गुरुवार को दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. चिदंबरम ने अपनी न्यायिक हिरासत और गिरफ्तारी दोनों को चुनौती दी थी

64

NewDelhi :  INX Media Case में  दिल्ली हाईकोर्ट अब  23 सितंबर को सुनवाई करेगा.  तब तक पी चिदंबरम तिहाड़ जेल में ही रहेंगे.  जान लें कि पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर गुरुवार को दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. चिदंबरम ने अपनी न्यायिक हिरासत और गिरफ्तारी दोनों को चुनौती दी थी. दिल्ली हाई कोर्ट में कपिल सिब्बल ने बहस की  शुरुआत करते हुए  कहा कि हमने न्यायिक हिरासत को चुनौती दी है. साथ ही रेगुलर बेल मांग रहे हैं. इस पर कोर्ट ने पूछा कि आखिर आप यहां क्यों आये हैं?

Trade Friends

कपिल सिब्बल ने हाईकोर्ट से कहा कि फैक्ट को सुनकर आप ही न्याय कर सकते हैं. पहले रेगुलर बेल सुन सकते हैं. इस पर सीबीआई की तरफ से तुषार मेहता ने कहा कि यह मामला ऐसा नही है कि कोई क्लर्क पैसे ले रहा हो. यह उससे भी ज़्यादा गंभीर मामला है. इसके बाद कपिल सिब्बल ने कहा कि हमारे अनुसार यह मामला 420 का नहीं है. कहा कि 19 सितंबर तक चिदंबरम न्यायिक हिरासत में हैं. इस मामले को जल्दी से जल्दी सुन लेना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंः#Kashmir: राजौरी, पूंछ के बाद गुलबर्ग में घुसपैठ की ना’पाक’ कोशिश, सेना सतर्क

सीबीआई 7 दिनों में जवाब दाखिल करे

इस पर कोर्ट ने सिब्बल से सवाल पूछा कि जब आपने दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश को उसी दिन सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जिस दिन अग्रिम जमानत की याचिका को खारिज किया गया था. तब आप न्यायिक हिरासत को चुनौती देने में पांच दिनों का समय क्यों लगा रहे हैं? इस पर कपिल सिब्बल ने फौरन दलील दी कि आपसे अनुरोध है, इस मामले को आप जल्दी सुन लीजिए. उस दिन 5.30 बज गये थे और फिर छुट्टी थी. गंभीर मामला है इसलिए आप से अनुरोध कर रहे हैं. इसके बाद दिल्ली हाई कोर्ट ने चिदंबरम की जमानत याचिका पर सीबीआई को नोटिस जारी किया. सीबीआई 7 दिनों में जवाब दाखिल करेगी. यानी 23 सितंबर तक पी चिदंबरम फिलहाल तिहाड़ में ही रहेंगे. 

 तुषार मेहता ने दलील दी कि अभी चार्जशीट दायर करनी है. आरोपी भ्रष्टाचार में लिप्त है. याचिकाकर्ता ने अग्रिम जमानत की अर्ज़ी दायर की थी. लेकिन इनकी अग्रिम जमानत की अर्ज़ी खारिज कर दी गयी. क्योंकि तब याचिकाकर्ता और आरोपी बड़े पद पर थे. सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि दो या तीन दिन का अंतर कोई फर्क नहीं डालेगा. इस मामले की सुनवाई 23 को ही की जाये. इसकी सुनवाई अगले सप्ताह की जाये. इससे पहले उन्होंने क्यों सामान्य बेल याचिका दाखिल नहीं की?

WH MART 1

इसे भी पढ़ेंःबिहार में नीतीश कुमार ही होंगे गठबंधन के ‘कप्तान’- एनडीए

चिदंबरम दोषी नहीं हैं, वे केवल जांच के दायरे में हैं

हर कोई गिरफ्तारी के दौरान ही बेल याचिका क्यों दाखिल करना चाहता है. इस पर टिप्पणी करते हुए कोर्ट ने कहा कि केवल बेल याचिका तब दाखिल की गयी, जब चिदंबरम को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. वहीं कोर्ट से कपिल सिब्बल ने सवाल किया कि चिदंबरम को परिवार से मिलने दिया जाये साथ ही उन्हें घर का खाना भी दिया जाये. उनका स्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है.

सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि हम एक राज्य के तौर पर किसी से भेदभाव नहीं कर सकते. उन्हें विशेष सुविधाएं नहीं दी जा सकतीं. इसके जवाब में कपिल सिब्बल ने कहा कि वे दोषी नहीं हैं. वे केवल जांच के दायरे में हैं. उन्हें होम फूड की इजाजत देनी चाहिए.

आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने जमानत के लिए बुधवार को दिल्ली हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. चिदंबरम ने आईएनएक्स मीडिया मामले में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत के सीबीआई अदालत के आदेश को भी चुनौती दी है. इस मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) कर रहा है. चिदंबरम फिलहाल न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल में बंद हैं. उन्होंने विशेष सीबीआई जज अजय कुमार कुहर की ओर से दिए गए न्यायिक हिरासत के आदेश को चुनौती दी है. पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम को पिछले गुरुवार को अदालत में पेश किया गया था, जहां विशेष सीबीआई जज कुहर ने उन्हें 14 दिनों की हिरासत में भेज दिया था

इसे भी पढ़ें – #Newtrafficrules: भाजपा के सांसद और विपक्ष के विधायक सभी कर रहे हैं नये ट्रैफिक नियमों लिए अतिरिक्त समय की मांग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like