न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः नजरबंद नेताओं पर बोले गवर्नर- जो जेल जाते हैं, वे नेता बनते हैं

423

Shrinagar: जम्मू-कश्मीर से संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाने के बाद से गवर्नर सत्यपाल मलिक लगातार सुर्खियों में हैं. अब उन्होंने कश्मीर के मुख्यधाराओं के नेताओं के नजरबंद होने पर तंज कसा है.

मुख्यधारा के सियासतदानों को हिरासत में रखने को राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने यह कहते हुए न्यायोचित ठहराने की कोशिश की कि जितना ज्यादा वक्त वे जेल में रहेंगे उन्हें उतना ही राजनीतिक फायदा मिलेगा.

इसे भी पढ़ेंःUS सांसद ने कहा- कश्मीर भारत का आंतरिक मामला, संयम बरतें इमरान

इस महीने पांच तारीख को केंद्र द्वारा जम्मू-कश्मीर के विशेष राज्य के दर्जे को खत्म किए जाने के बाद पहली बार प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे मलिक से तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों और अन्य सियातसतदानों को हिरासत में लेने तथा उन्हें रिहा करने के बारे में पूछा गया था.
गौरतलब है कि सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को नजरबंद किया हुआ है.

Trade Friends

‘जो जेल जाते हैं, वे नेता बनते हैं’

राज्यपाल ने कहा, ‘ क्या आप नहीं चाहते हैं लोग नेता बनें. मैं 30 बार जेल गया हूं. जो लोग जेल जाते हैं, वे नेता बनते हैं. उन्हें वहां रहने दें. जितना ज्यादा वक्त वे जेल में बिताएंगे, चुनाव प्रचार के समय उतना ही वे दावे कर पाएंगे. मैंने छह महीने जेल में गुज़ारे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘ इसलिए अगर आपको उनसे हमदर्दी है, तो उन्हें हिरासत में लेने से दुखी नहीं हों. वे सभी अपने घरों में हैं. मैं आपातकाल के दौरान फतेहगढ़ जेल में था जहां पहुंचने में दो दिन लगते थे. अगर किसी मुद्दे पर किसी को हिरासत में लिया जाता है और उसकी मर्जी है तो वह राजनीतिक लाभ लेगा.’

उल्लेखनीय है कि फारूक अब्दुल्ला अपने घर में हैं, जबकि उनके बेटे उमर हरि निवास में हैं. वहीं महबूबा मुफ्ती को चश्मेशाही में रखा गया है.

इसे भी पढ़ेंःएक्विट रेटिंग्स में अनुमान, RBI से मिले पैसे का क्या कर सकती है सरकार

‘चुनाव में जनता जूते मारेगी’

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधा. राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि हमारा मुख्य फोकस जम्मू-कश्मीर की कानून व्यवस्था है, और इसमें हम सफल रहे हैं.

गवर्नर ने कहा, “हमारे लिए हर एक कश्मीरी की जान कीमती है, हम एक भी जान की हानि नहीं चाहते हैं, किसी भी नागरिक की जान नहीं गई है, हालांकि, कुछ लोग जो हिंसक होना चाह रहे थे वे घायल हुए है, और उन्हें भी कमर के नीचे चोट लगी है.” इस दौरान गवर्नर मलिक की जुबान फिसलती दिखी और उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव जनता ऐसे नेताओं को जूते मारेगी जो 370 के हिमायती हैं.

‘तीन महीनों में 50 हजार भर्तियां’

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि मोदी सरकार जम्मू और कश्मीर को लेकर जल्द ही बड़ी घोषणा कर सकती है. साथ ही कहा कि अगले तीन महीनों में भर्ती अभियान के तहत 50 हजार नौकरियां उपलब्ध होंगी. गवर्नर ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के युवाओं से इस भर्ती अभियान में सक्रिय रुप से शामिल होने का आग्रह किया.

इसे भी पढ़ेंःतेलंगाना एक्सप्रेस की दो बोगियों में लगी आग, सभी यात्री सुरक्षित

SGJ Jewellers

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like