न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जम्मू-कश्मीर  : प्रशासन का आदेश, सोमवार से खुलेंगे स्कूल-कॉलेज, सरकारी कार्यालयों और सचिवालय में कामकाज शुरू    

जभवन के एक सूत्र के अनुसार बताया कि जम्मू-कश्मीर  में सार्वजनिक प्रतिबंधों में ढील देने का फैसला जुमे की नमाज के बाद की स्थिति को ध्यान में रखकर लिया जायेगा.

30

Srinagar : जम्मू-कश्मीर  प्रशासन ने प्रदेश के सभी स्कूलों-कॉलेजों को सोमवार से खोलने का निर्देश जारी कर दिया है. सूत्रों के अनुसार सरकारी कार्यालयों और सचिवालय शुक्रवार से कामकाज शुरू कर देंगे, राजभवन के एक सूत्र के अनुसार बताया कि जम्मू-कश्मीर  में सार्वजनिक प्रतिबंधों में ढील देने का फैसला जुमे की नमाज के बाद की स्थिति को ध्यान में रखकर लिया जायेगा. जान लें कि प्रदेश में इंटरनेट और फोन सेवाओं पर वर्तमान में  पूरी तरह से प्रतिबंध है. खबर है कि  जल्द ही इन प्रतिबंधों  में ढील दी जायेगी. माना जा रहा है कि स्वतंत्रता दिवस के दौरान प्रदेश की स्थिति की समीक्षा के बाद प्रशासन ने यह फैसला लिया है.

सरकार को कुछ और समय मिलना चाहिए

इस बीच जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 के प्रावधानों को खत्म करने के खिलाफ दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट  नाराज है. खबरों  के अनुसार सीजेआई  ने याचिकाकर्ता को  फटकार लगाते हुए कहा कि बिना जानकारी की पुष्टि किये, कुछ सूचनाओं के आधार पर याचिका दायर कर दी गयी है. सुप्रीम कोर्ट ने मीडिया पर बैन हटाने संबंधी याचिका पर  फिर तहा  कि प्रदेश के हालात स्थिर करने के लिए सरकार को कुछ और समय  मिलना चाहिए.

जान लें कि  पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किये जाने संबंधी मोदी सरकार के फैसले के बाद एहतियातन स्कूल, कॉलेज, सरकारी कार्यालय सहित कई संस्थान बंद कर दिये गये  थे. कड़ी सुरक्षा के बीच इंटरनेट और फोन सेवाओं पर भी पाबंदी लगा दी गयी थी.  अब धीरे-धीरे इसमें ढील दी जा रही है. 10 अगस्त को जम्मू इलाके के पांच  जिलों से धारा 144 हटाते हुए स्कूल-कॉलेजों को खोलने का निर्देश जारी किया गया था.

Trade Friends

इसे भी पढ़ें –  भारत में भी मंदी के आसार! पीएम मोदी ने वित्त मंत्री सीतारमण से की मंत्रणा

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like