न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जमशेदपुर :  जिले के 154 स्कूल अप-टु-द-मार्क नहीं, शिक्षा विभाग की ऑडिट कराने की योजना

25 सितंबर तक सभी स्कूलों का ऑडिट पूरा कर लेने का लक्ष्य तय किया गया है.

48

Abinash  Mishra

Jamshedpur : शिक्षा विभाग के अनुसार जमशेदपुर के 154 स्कूल अप–टु- द-मार्क नहीं है, जिसको लेकर शिक्षा विभाग गंभीर हो गया है .बच्चो की लगातार घटती संख्या भी एक बड़ी वजह है कि सरकार सोचने पर विवश है. विभाग  ने स्कूलों का सोशल ऑडिट कराने का मन बनाया है.

खबरों के अनुसार कुल 37 बिंदु तैयार किये गये है, जिन पर स्कूलों को खरा उतारने की कोशिश होगी. पहले चरण में 53 स्कूलों में ऑडिट करने की योजना है. जिसमें जमशेदपुर,बोड़ाम और पटमदा इलाके के स्कूल शामिल होंगे. 25 सिंतंबर तक सभी स्कूलों का ऑडिट पूरा कर लेने का लक्ष्य तय किया गया है.

Trade Friends

स्पेशल टीम का होगा गठन

ऑडिट करने के लिए शिक्षा विभाग टीम का गठन करेगा. टीम सभी स्कूलों का ऑडिट कर प्रमाण पत्र देगी. टीम सबसे पहले स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई का स्तर जांचेगी.  शिक्षकों ता संख्या बल भी देखेगी.  इसके अलावा समय पर बच्चों के आने और शिक्षकों के स्कूल पहुंचने का समय भी नोट करेगी.

हर स्कूल की एक अलग रिपोर्ट होगी, जो विभाग में  जमा की जायेगा. रिपोर्ट के अनुसार जो कमी होगी, उसे पूरा किया जायेगा अगर शिक्षकों के देर से स्कूल आने की शिकायत मिली तो उन पर कड़ाई होगी. शिक्षा विभाग की कोशिश है कि इन प्रयासों से सरकारी स्कूलों के प्रति अभिभावकों ता आकर्षण बढ़ाया जा सके,  ताकि बच्चों की संख्या में इजाफा हो.

इसे भी पढ़ें : मंडल डैम बनाने के लिए पलामू टाइगर रिजर्व के 3.44 लाख पेड़ काटे जायेंगे

पोषाक और मिड डे मील में भ्रष्टाचार

Related Posts

500 मेगावाट के पावर प्लांट को दो माह बाद किया गया लाइटअप, ऐश पौंड के लिए जगह का संकट

सीसीएल की बंद खदानें नहीं मिलीं तो बंद हो सकते हैं बोकारो थर्मल एवं चंद्रपुरा के पावर प्लांट : बीएन साह

विभाग की सबसे बडी चिंता मिड डे मील और पोषाक वितरण में हो रहे भ्रष्टाचार को  रोकने की है,  जिसकी शिकायत लगातार मिलती है.जो पोषक आहार तय किया जाता है वो दिया नहीं जाता.पोषक आहार की गुणवत्ता पर सवाल हमेशा उठते रहे हैं. सरकार इसे लेकर कड़े कदम उटाने को तैयार भी है. टीम ये भी देखेगी कि स्कूलों में मिड डे मील समय से बच्चों को मिलता है या नहीं. इसका रख-ऱखाव स्कूलों में कैसे किया जाता है.

पोषाक भी स्कूल का महत्वपूर्ण हिस्सा है जो बच्चों को स्कूल से मिलता है.  लेकिन यह भी भ्रष्टाचार के चलते बच्चों को समय पर नहीं मिल पाता है. स्कूल प्रबंधन पोषाक के समय पर नहीं पहुचने का हवाला हमेशा देते रहते हैं टीम पोषाक के स्कूलों में पहुचने से लेकर बच्चों को मिलने तक हर स्टेज का भी आकलन करेगी.

समय पर मिले किताब

सरकार की सबसे बड़ी चुनौती किताबों को हर स्कूल तक पहुंचाने की है. यह समस्या दूर करने का प्रयास हमेशा से होता रहा है. लेकिन इस साल भी कई स्कूल अब तक किताबों के इंतजार में ही हैं. टीम इस पर भी काम करेगी और हर स्कूल तक किताब पहुंचाने का दो विक्लप तैयार करेगी,  ताकि इसमें देरी न हो.

  तय समय में ऑडिट करना बड़ी चुनौती

154 स्कूलों का ऑडिट सरकार 25 दिन में करना चाहती है,  वो भी एक टीम के सहारे. जमशेदपुर शहरी इलाके को छोड़ बोड़ाम पटमदा जैसे इलाकों में स्कूलों तक पहुंचना ही मुश्किल है . ऐसे में क्वालिटी चेक तय समय पर पूरा करना इतना आसान नहीं. उसके अलावा शिक्षा विभाग के अपने सिस्टम में ढेर सारी खामी है. तालमेल का भी अभाव है.  जिसे ठीक करने के बाद ही सरकारी स्कूल अप-टु-डेट हो सकेंगे. सरकार को 25 दिन से ज्यादा समय की जरुरत पड़ेगी.

इसे भी पढ़ें : पलामू : 14 वर्ष से जर्जर हालत में है सड़क, सांसद-विधायक से फरियाद का नहीं हुआ कोई असर

SGJ Jewellers

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like