न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CVC की गाइडलाइन को ताक पर रख कर #JBVNL ने निकाला टेंडर

1,146

Ranchi: चार सितंबर 2019 को झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड (JBVNL) की तरफ से एक टेंडर निकाला गया. टेंडर ट्रांसफार्मर और केबल की जांच के लिए उपकरण खरीदने का निकला है. उपकरण खरीदने की लागत करीब 30 करोड़ है.

लेकिन टेंडर खुलने से पहले ही इसमें विवाद खड़ा हो गया है. विवाद इस बात को लेकर है कि टेंडर में एक खास कंपनी के उपकरण का नाम दिया गया है. शर्त है कि उसी कंपनी का उपकरण खरीदना है. टेंडर में लिखा गया है कि 35 केवी के मीडियम वोल्टेज केबल की जांच के लिए जो उपकरण चाहिए वो किसी VIOLA TD कंपनी का ही चाहिए.

Trade Friends

इसे भी पढ़ेंःझारखंड की बदहाली के जिम्मेदार कौन, भाजपा या झामुमो ? पढ़ें, लोगों के विचार, आप भी लिखें..

इसे भी पढ़ेंः JBVNL, राहुल पुरवार, भ्रष्टाचार के आरोप और रघुवर दास की चुप्पी 

साथ में measurement accuracy के लिए जो उपकरण चाहिए वो भी VIOLA TD कंपनी का ही होना चाहिए. जबकि ऐसा करना CVC की गाइडलाइन के मुताबिक गलत है.

गाइडलाइन की मुताबिक टेंडर में किसी भी उपकरण का विशेष विवरण (Specification) लिखा जा सकता है, लेकिन कंपनी का नाम नहीं. जबकि टेंडर में साफ तौर से VIOLA TD कंपनी के नाम का उल्लेख कर दिया गया है. जो सीधे तौर पर CVC गाइडलाइन का उल्लंघन है.

टेंडर डालने वालों ने जमकर किया विरोध

WH MART 1

इस उपकरण की सप्लाई करने के इच्छुक व्यवसायी टेंडर निकलने के बाद से ही खफा चल रहे हैं. टेंडर निकलने के बाद 12 सिंतबर को होने वाले प्री-बीड मीटिंग में इस बात का जमकर विरोध हुआ. विभाग के लोगों पर व्यवसायियों ने आरोप लगाया कि जानबूझ कर विभाग ने VIOLA TD कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए ऐसा किया है.

इसे भी पढ़ेंः#ElectionCommission ने हरियाणा-महाराष्ट्र में विस चुनाव का किया ऐलान, 21 अक्टूबर को वोटिंग, 24 को काउंटिंग

इसे भी पढ़ेंः हेमंत सोरेन का आरोप : जिस विभाग के मंत्री हैं CM रघुवर दास, उस JBVNL के एमडी राहुल पुरवार कर रहे हैं भ्रष्टाचार

विभाग पर आरोप लगने के बाद, विभाग ने कहा है कि व्यवसायी अपनी शिकायत लिखित रूप से विभाग को सौंपे. व्यवसायी लगातार अपनी शिकायत विभाग को सौंप रहे हैं.

लेकिन देखने वाली बात होगी कि क्या विभाग अपनी गलती मान कर टेंडर को कैंसल कर दोबारा टेंडर निकालता है. क्या विभाग दोबारा बिना किसी कंपनी को प्राथमिकता दिए टेंडर निकालने की प्रक्रिया दोहराता है.

इसे भी पढ़ेंः#MPSudarshanBhagat की CDPO पत्नी पर सब मेहरबान, तबादले के एक साल बाद भी पुरानी जगह ही जमीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like