न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JharkhandElection: पूर्व कुख्यात नक्सली कुन्दन पाहन को एनआइए की विशेष अदालत ने दी चुनाव लड़ने की अनुमति

तमाड़ से चुनाव लड़ने की चर्चा

549

Ranchi: तमाड़ विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्या करने के आरोप में जेल में बंद पूर्व नक्सली कुंदन पाहन के चुनाव लड़ने पर एनआइए की विशेष अदालत ने इजाजत दे दी है.

सोमवार को एनआइए के विशेष जज नवनीत कुमार की अदालत ने चुनाव लड़ने की इजाजत दे दी. बता दें कि कुन्दन पाहन ने कोर्ट से चुना लड़ने की अनुमति मांगी थी.

JMM

15 को नामांकन

कुंदन पाहन 15 नवंबर को नामांकन दाखिल करेंगे. कोर्ट ने यह तिथि तय की है.

बताया जा रहा है 128 गम्भीर आपराधिक ओर नक्सल घटनाओं का आरोपी कुन्दन पाहन पर है. बता दें कि इससे पहले पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा हत्या के आरोप में जेल में बंद राजा पीटर को भी चुनाव लड़ने की अनुमति मिल चुकी है.

नक्सली कमांडर कुंदन पाहन को बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा, होटवार से हजारीबाग ओपन जेल में पिछले महीने शिफ्ट कर दिया गया है. कुंदन वहां अपनी पत्नी के साथ रह रहा है.

इसे भी पढ़ें – स्किल समिट में युवाओं को मिला धोखा क्यों न बने चुनावी मुद्दा: पहले चरण के छह जिलों से 19600 को मिली नौकरी, 1900 ही कर रहे काम

14 मई 2017 को पुलिस के सामने किया था सरेंडर

कुंदन पाहन समर्पण करने के बाद होटवार जेल भेजे जाने के बाद से ही हजारीबाग ओपन जेल में खुद को शिफ्ट करने की मांग कर रहा था.

इसके बाद बिरसा मुंडा जेल प्रशासन की ओर से सरकार द्वारा बनाये गये नियमानुसार कागजी प्रक्रिया पूरी की गयी और कोर्ट से आदेश लेने के बाद उसे कड़ी सुरक्षा के बीच हजारीबाग ओपन जेल में शिफ्ट कर दिया गया.

सरकार द्वारा चलायी जा रही आत्मसमर्पण नीति से प्रभावित होकर 15 लाख के इनामी नक्सली कुंदन पाहन ने 14 मई 2017 को रांची में पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था.

कुंदन का पुलिस पिछले कई वर्षों से तलाश कर रही थी लेकिन सफलता नहीं मिल पा रही थी. कुंदन का समर्पण करना पुलिस के लिए बड़ी उपलब्धि थी.

समर्पण करने के बाद कुंदन को कड़ी सुरक्षा के बीच होटवार में बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा स्थित सेल में रखा गया था.

इसे भी पढ़ें – #MaharastraVerdict : संजय राउत ने कहा,  भाजपा पीडीपी के साथ सरकार बना सकती है,  तो शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस  क्यों नहीं 

128 संगीन मामलों में आरोपी है पूर्व नक्सली कमांडर

झारखंड में आतंक का पर्याय माने जानेवाले नक्सली कुंदन पाहन पर विभिन्न थानों में कुल 128 मामले दर्ज थे. इनमें हत्या, लूट, आर्म्स एक्ट जैसे संगीन मामले भी शामिल हैं.

कुंदन पर सबसे ज्यादा 50 मामले खूंटी जिला में दर्ज हैं. इसके अलावा रांची में 42, चाईबासा में 27, सरायकेला में 7 और गुमला में 1 मामला दर्ज है.

अपने वारदात से पूरे राज्य की पुलिस की नींद उड़ा देनेवाले कुंदन ने अचानक 14 मई 2017 को पुलिस के सामने समर्पण कर दिया था.

इसे भी पढ़ें – 86 वषीय पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त #TNSeshan का चेन्नई में  निधन, पीएम मोदी ने शोक जताया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like