न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JharkhandElection: कुख्यात पूर्व नक्सली कुंदन पाहन ने कोर्ट से मांगी चुनाव लड़ने की अनुमति

2,197

Ranchi: तमाड़ विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्या करने का आरोप में जेल में बंद पूर्व नक्सली कुंदन पाहन ने कोर्ट से विधानसभा चुनाव लड़ने की अनुमति मांगी है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कुंदन पाहन के वकील ने कोर्ट से कुंदन पाहन के चुनाव लड़ने की अनुमति मांगी है. बताया जा रहा है कि कुंदन पाहन तमाड़ विधानसभा से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं.

JMM

बता दें कि इससे पहले पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा हत्या के आरोप में जेल में बंद राजा पीटर को भी चुनाव लड़ने की अनुमति मिल चुकी है.

पूर्व नक्सली कमांडर कुंदन पाहन को बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा, होटवार से हजारीबाग ओपन जेल में पिछले महीने शिफ्ट कर दिया गया है.

कुंदन वहां अपनी पत्नी के साथ रह रहा है. कुंदन पाहन पर विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्या करने का आरोप है.

इसे भी पढ़ें – #PoliticalGossip: संथाल में बड़का पार्टी के कार्यकर्ताओं के चखना में खली सुखल चना नहीं बल्कि मुर्गो रहेगा

14 मई 2017 को पुलिस के सामने किया था सरेंडर

कुंदन पाहन समर्पण करने के बाद होटवार जेल भेजे जाने के बाद से ही हजारीबाग ओपन जेल में खुद को शिफ्ट करने की मांग कर रहा था.

इसके बाद बिरसा मुंडा जेल प्रशासन की ओर से सरकार द्वारा बनाये गये नियमानुसार कागजी प्रक्रिया पूरी की गयी और कोर्ट से आदेश लेने के बाद उसे कड़ी सुरक्षा के बीच हजारीबाग ओपन जेल में शिफ्ट कर दिया गया.

सरकार द्वारा चलायी जा रही आत्मसमर्पण नीति से प्रभावित होकर 15 लाख के इनामी नक्सली कुंदन पाहन ने 14 मई 2017 को रांची में पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था.

कुंदन का पुलिस पिछले कई वर्षों से तलाश कर रही थी लेकिन सफलता नहीं मिल पा रही थी. कुंदन का समर्पण करना पुलिस के लिए बड़ी उपलब्धि थी.

समर्पण करने के बाद कुंदन को कड़ी सुरक्षा के बीच होटवार में बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा स्थित सेल में रखा गया था.

इसे भी पढ़ें – किस-किस के पैसे वापस देगी सरकार?

128 संगीन मामलों में आरोपी है पूर्व नक्सली कमांडर

झारखंड में आतंक का पर्याय माने जानेवाले नक्सली कुंदन पाहन पर विभिन्न थानों में कुल 128 मामले दर्ज थे. इनमें हत्या, लूट, आर्म्स एक्ट जैसे संगीन मामले भी शामिल हैं.

कुंदन पर सबसे ज्यादा 50 मामले खूंटी जिला में दर्ज हैं. इसके अलावा रांची में 42, चाईबासा में 27, सरायकेला में 7 और गुमला में 1 मामला दर्ज है.

अपने वारदात से पूरे राज्य की पुलिस की नींद उड़ा देनेवाले कुंदन ने अचानक 14 मई 2017 को पुलिस के सामने समर्पण कर दिया था.

इसे भी पढ़ें – #MaharashtraSuspense : ShivSena के विधायक फाइव-स्टार होटल में शिफ्ट, गडकरी मोहन भागवत  से मिलने नागपुर पहुंचे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like