न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JioCustomers फ्री वॉइस कॉल नहीं कर पायेंगे,  6 पैसे प्रति मिनट चार्ज देना होगा

 जियो यूजर्स  जियो के अलावा बाकी नेटवर्क पर वॉयस कॉल करेंगे,  तो  उनसे 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज किया जायेगा. हालांकि उन्हें बराबर मूल्य का फ्री डेटा देकर जियो कंपनी इसे बैलेंस  करेगी.   

891

NewDelhi : रिलायंस जियो पर वॉइस कॉल अब फ्री नहीं रहेगा. जियो कस्टमर्स को 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज देना होगा. उद्योगपति मुकेश अंबानी की टेलिकॉम कंपनी रिलायंस जियो ने कॉल टर्मिनेशन चार्ज से जुड़े नियमों की अनिश्चितता के कारण बुधवार को घोषणा की है कि वह कस्टमर्स से वॉइस कॉलिंग के पैसे चार्ज करेगा.  जियो यूजर्स  जियो के अलावा बाकी नेटवर्क पर वॉयस कॉल करेंगे,  तो  उनसे 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज किया जायेगा. हालांकि उन्हें बराबर मूल्य का फ्री डेटा देकर जियो कंपनी इसे बैलेंस  करेगी.

जियो द्वारा जारी  एक बयान में कहा गया है कि जब तक टेलिकॉम ऑपरेटरों को अपने यूजर्स द्वारा अन्य ऑपरेटरों के नेटवर्क पर किये गये  मोबाइल फोन कॉल के लिए पेमेंट करने की जरूरत पड़ रही है, तब तक 6 पैसा प्रति मिनट शुल्क  लागू रहेगा.

JMM

इसे भी पढ़ें :  आर्थिक संकट : #ZeeGroup के अखबार डेली न्यूज एंड एनालिसिस का प्रकाशन बंद

 जियो यूजर्स द्वारा दूसरे जियो नंबर पर किये गये कॉल और वॉट्सएप पर चार्ज नहीं

जियो  के अनुसार यह चार्ज जियो यूजर्स द्वारा दूसरे जियो नंबर पर किये गये कॉल और वॉट्सएप, फेसटाइम या ऐसे अन्य प्लेटफॉर्म्स का उपयोग कर किये गये फोन और लैंडलाइन कॉल पर लागू नहीं होगा.

ट्राई के फैसले के कारण जियो ने उठाया कदम 

जान लें कि 2017 में दूरसंचार नियामक ट्राई ने इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज (IUC) को 14 पैसे से 6 पैसे प्रति मिनट तक घटा दिया था.  ट्राई ने कहा था कि इसे जनवरी, 2020 तक खत्म कर दिया जायेगा. खबरों के अनुसार ट्राई ने रिव्यू के लिए एक कंसल्टेशन पेपर मंगवाया है कि क्या इस टाइमलाइन को बढ़ाने की जरूरत है.  चूंकि जियो नेटवर्क पर वॉइस कॉल फ्री हैं, इसलिए कंपनी को भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसे ऑपरेटर्स को किये गये कॉल्स के लिए 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान करना पड़ा है.

Related Posts

#EconomicSlowdown : रघुराम राजन ने कहा, अर्थव्यवस्था का संचालन PMO से होना, मंत्रियों के पास कोई शक्ति नहीं होना ठीक नहीं

पिछली सरकारों की गठबंधन भले ही ढीला हो सकता है, लेकिन उन्होंने लगातार अर्थव्यवस्था के उदारीकरण का रास्ता चुना.

इसे भी पढ़ें :  नकदी संकट से जूझ रहा है # UnitedNations , कर्मचारियों के  वेतन पर संकट

इनकमिंग कॉल्स फ्री

जियो ने ट्राई के इस कदम से हुए नुकसान की भरपाई के लिए अपने राइवल के नेटवर्क पर हर कॉल के लिए ग्राहकों से 6 पैसे प्रति मिनट का चार्ज लेने का फैसला किया है.  यह पहली बार होगा जब जियो यूजर्स वॉयस कॉल के लिए पेमेंट करेंगे.  अब तक जियो केवल डेटा के लिए चार्ज लेता है, और देश में कहीं भी और किसी भी नेटवर्क पर वॉइस कॉल पूरी तरह फ्री है.  हालांकि, सभी नेटवर्क से इनकमिंग कॉल्स पहले की तरह फ्री में जारी रहेंगी.

जियो ने अपने  बयान में कहा है कि ट्राई की ओर से मांगे गये कंसल्टेशन पेपर की वजह से स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी है और जियो को न चाहते हुए भी, मजबूरी में आईयूसी चार्ज लगने तक कस्टमर्स से ऑफ-नेट मोबाइल कॉल्स के लिए 6 पैसे प्रति मिनट लेने पड़ रहे हैं.  जियो बुधवार से होने वाले सभी रीचार्ज के बाद कस्मर्स से जियो के अलावा दूसरे मोबाइल ऑपरेटर्स पर किये गये कॉल्स के लिए आईयूसी टॉप-अप वाउचर के माध्यम से 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज लेगा.

तीन साल में कंपनी ने 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान किया

ट्राई की ओर से टर्मिनेशन चार्ज शून्य न किये जाने तक कस्टमर्स को यह कॉलिंग चार्ज देना पड़ेगा.  हालांकि, इस  राशि के बदले आईयूसी टॉप-अप वाउचर की खपत के हिसाब से उतना ही डेटा यूजर्स को एक्सट्रा दिया जायेगा.  जियो ने बताया कि आईयूसी फीस के तौर पर पिछले तीन साल में कंपनी ने एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया जैसे राइवल टेलिकॉम ऑपरेटर्स को अब तक लगभग 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान किया है.

इसे भी पढ़ें : #SBI का ग्राहकों को तोहफाः ब्याज दरों में कटौती, सस्ते होंगे लोन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like