न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मॉब लिंचिंग, वन अधिकार कानून संशोधन को लेकर सदन में सरकार को घेरेगा JMM

जेएमएम कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में आयोजित पार्टी कोर कमेटी की बैठक में लिया गया निर्णय

951

Ranchi : आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है. इसे लेकर पार्टी कोर कमेटी की एक बैठक रविवार को कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के आवास में आयोजित की गयी.

इस दौरान कमिटी के सदस्य हेमंत सोरेन, पूर्व उप मुख्यमंत्री स्टीफन मरांडी, चंपई सोरेन, मथुरा प्रसाद महतो, दीपक बिरूवा और कुणाल षाडंगी उपस्थित थे. जबकि कोर कमेटी के अन्य सदस्य हाजी हुसैन अंसारी, जगरनाथ महतो, चमरा लिंडा बैठक में नहीं शामिल हुए.

JMM

इसे भी पढ़ें : ‘बैंक अधिकारी लगातार तीन मिस कॉल करें, तो थाना प्रभारी समझें डकैत ने बंधक बना रखा है’

25 जुलाई को गुरुजी की उपस्थिति में तय होगी रूपरेखा

बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में बहरागोड़ा विधायक कुणाल षाड़ंगी ने कहा कि कोर कमिटी की पहली बैठक हुई. इसमें न केवल झारखंड बल्कि देश के कई मुद्दों पर चर्चा हुई बल्कि इसमें मॉब लिंचिंग, वन अधिकार कानून और विधि-व्यवस्था को लेकर प्रमुख मुद्दे हैं. वहीं आने वाले 25 जुलाई को गुरुजी शिबू सोरेन की उपस्थिति में रुपरेखा तय की जायेगी.

कोर कमेटी की बैठक में पूर्व सांसद एके राय को श्रद्धांजलि दी गयी. कुणाल ने कहा कि झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र में गुमला में हुए मॉब लिंचिंग और अन्य विषयों को लेकर पार्टी विधयक सरकार को घेरेंगे.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह : डीजे के साउंड बॉक्स में भरकर शराब तस्करी, वाहन पलटा तो निकली ब्रांडेड बोतलें

संगठन में बदलाव की तैयारी शुरू करते हुए बनी है कमिटी

बता दें कि लोकसभा चुनाव में शिकस्त के बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा ने संगठन में बदलाव की तैयारी शुरू करते हुए एक कोर कमेटी गठित की थी. विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कोर कमेटी के गठन को महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

यह कमेटी पार्टी सुप्रीमो शिबू सोरेन को महत्वपूर्ण मसलों पर सलाह देगी और शीर्ष स्तर पर फैसले लेने में भी मदद करेगी. नौ सदस्यीय कोर कमेटी में शामिल तमाम नेता अनुभवी और कद्दावर हैं. माना जा रहा है कि इसके जरिए जेएमएम के शीर्ष नेतृत्व ने यह भी संकेत देने की कोशिश की है कि वह अनुभवी नेताओं और युवा चेहरों को आगे कर मजबूत उपस्थिति दर्ज कराने की रणनीति बना चुकी है.

इसे भी पढ़ें : साध्वी प्रज्ञा ने कहा,  हमें  नालियां और शौचालय साफ करने के लिए सांसद नहीं बनाया गया है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like