न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

देश के 47वें #ChiefJusticeOfIndia के तौर पर न्यायाधीश अरविंद बोबडे ने ली शपथ

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिलायी पद व गोपनीयता की शपथ

1,025

New Delhi: न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबडे ने सोमवार को देश के 47वें प्रधान न्यायाधीश के रूप में शपथ ली. राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने न्यायमूर्ति बोबडे (63) को शपथ ग्रहण कराई.

ज्ञात हो कि न्यायमूर्ति रंजन गोगोई रविवार को सेवानिवृत्त हुए जिसके बाद न्यायमूर्ति बोबडे ने प्रधान न्यायाधीश के तौर पर शपथ ली.

JMM

इसे भी पढ़ेंःआज से संसद का शीतकालीन सत्रः नागरिकता (संशोधन) विधेयक 2019 समेत कई एजेंडे पर होगी सरकार की नजर

प्रधान न्यायाधीश को तौर पर न्यायमूर्ति बोबडे का कार्यकाल करीब 17 महीने का होगा और वह 23 अप्रैल 2021 को सेवानिवृत्त होंगे. 17 नवंबर को रिटायर हुए पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने ही CJI पद के लिए जस्टिस बोबडे के नाम की सिफारिश की थी.

बता दें कि हाल ही में अयोध्या के रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर आये फैसले की सुनवाई करने वाली बेंच में जस्टिस बोबडे भी शामिल थे.

Related Posts

#Gujarat : पर्यटकों के मामले में स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से आगे निकली स्टेच्यू ऑफ यूनिटी

अनावरण के सालभर बाद ही स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को रोजाना देखने आने वाले पर्यटकों की संख्या अमेरिका के 133 साल पुराने स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी  के पर्यटकों से ज्यादा हो गयी है.

देश के 47वें प्रधान न्यायाधीश के तौर पर जस्टिस एसए बोबडे के समक्ष कई बड़े मामले होंगे, जिनपर उन्हें फैसला सुनाना होगा. मसलन, अयोध्या पर आये सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर करने का निर्णय मुस्लिम पक्ष ने लिया है.

इसे भी पढ़ेंः#JharkhandElection : फिर सही साबित हुई न्यूज विंग की खबर, बदले गये कांके से कांग्रेस उम्मीदवार

वहीं दूसरी ओर सबरीमला मंदिर विवाद अब बड़ी बेंच को सौंपा गया है, ऐसे में बतौर सीजेआइ वह इस बेंच का हिस्सा होंगे.

2013 में सुप्रीम कोर्ट में जज बने थे जस्टिस बोबडे

1956 में जन्मे एसए बोबडे ने बीए एलएबी की डिग्री नागपुर से हासिल की है. 1978 में वह बार काउंसिल के सदस्य बने और बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में प्रैक्टिस करने लगे. साल 2010 में उन्हें बॉम्बे हाईकोर्ट का अतिरिक्त जज बनाया गया.

साल 2012 मे वह मध्य प्रदेश के हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बने. साल 2013 में उनको सुप्रीम कोर्ट में जज बने. वह 23 अप्रैल 2021 को रिटायर हो जायेंगे.

इसे भी पढ़ेंः#Maoist कमांडर का भाई 2 माह से जेल में, परिजन बोले- ‘पुलिस सरेंडर कराने के लिए मिलने भेजती है और रास्ते में गिरफ्तार कर लेती है’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like