न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोले जस्टिस जे चेलमेश्वर, कुछ जज ऐसे, जिन्हें झुकाया जा सकता है

कुछ जज ऐसे हैं जिन्हें झुकाया जा सकता है, लेकिन सभी जजों को एक ही नजर से देखना सही नहीं है.  सुप्रीम कोर्ट में जज रह चुके जस्टिस जे चेलमेश्वर ने इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2019 के मंच पर यह बात कही.

94

NewDelhi :  कुछ जज ऐसे हैं जिन्हें झुकाया जा सकता है, लेकिन सभी जजों को एक ही नजर से देखना सही नहीं है.  सुप्रीम कोर्ट में जज रह चुके जस्टिस जे चेलमेश्वर ने इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2019 के मंच पर यह बात कही. बता दें कि राजदीप सरदेसाई के सवालों का जवाब देते हुए यह बात कही. राजदीप ने उनसे पूछा था कि क्या जज समझौता कर रहे हैं?  इस पर उन्होंने कहा कि यह व्यक्ति पर निर्भर करता है आप किस जज की बात कर रहे हैं? हालांकि, मैं कह सकता हूं कि कुछ जज ऐसे हैं जिन्हें झुकाया जा सकता है. लेकिन सभी जजों को एक ही नजर से देखना सही नहीं है. इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2019 के दूसरे दिन जस्टिस जे चेलमेश्वर ने कहा कि लोकतंत्र में सवाल पूछना कोई विरोध नहीं होता. राजदीप ने पूछा कि सुप्रीम कोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ कभी इस तरह से जजों ने आकर प्रेस कॉन्फेंस नहीं की थी?

इसे भी पढ़ें : जैश के मदरसों की 4 इमारत पर भारत ने गिराये थे बम, मारे गये आतंकियों की संख्या का आकलन फिलहाल काल्पनिक- अधिकारी

JMM

इस सवाल के जवाब में जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि अगर कुछ कभी नहीं हुआ इसका मतलब ये नहीं कि कभी नहीं होगा. जब हमने प्रेस कॉन्फ्रेंस की तब भी कहा गया था कि ये कुछ नया है.  हालांकि, उन्होंने कहा कि सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया में भी न्यायपालिका में संकट आता रहा है. ऐसे में जजों को लेकर भी सवाल उठते रहे हैं, लेकिन सभी जजों को एक नजरिए से नहीं देखा जा सकता है.

महाभियोग लाना किसी भी समस्या का हल नहीं है

इस क्रम में जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि जब मैंने सवाल उठाये तो कुछ लोगों ने कहा कि मैं कोई एजेंडा चला रहा हूं. लेकिन मुझे फर्क नहीं पड़ता. चेलमेश्वेर ने कहा कि महाभियोग लाना किसी भी समस्या का हल नहीं है. कोलेजियम के सिस्टम में भी काफी परेशानी हैं. कहा कि कोर्ट के द्वारा की जा रही नियुक्तियों को रोका जा रहा था. हालांकि, उन्होंने कहा कि बीते दिनों सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्तियों को लेकर विवाद हुआ था. लोग सीनियॉरिटी की बात कर रहे थे, लेकिन किसी ने जजों के फैसलों की बात नहीं की. ऐसे में लोगों को ये भी देखना चाहिए कि जज क्या सोचता है किस तरह के विचार रखता है.

सीबीआई को कोई भी पार्टी  सुधारना  नहीं चाहती

सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस जे चेलमेश्वर ने कई मुद्दों पर अपनी बात रखी. कुछ ही दिन पहले देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को लेकर हुए विवाद पर उन्होंने कहा कि देश में कोई भी पार्टी ऐसी नहीं है जो कि इस संस्थान को सुधारना चाहती है. उन्होंने कहा कि सत्ता का यही नेचर है. जस्टिस चेलमेश्वर ने बताया कि सीबीआई को लेकर देश की एक हाई कोर्ट ने कहा था कि कानूनी रूप से पुलिस एक्ट के तहत इसका पलड़ा कमजोर है. लेकिन उस आदेश के बाद कभी ये मुद्दा सुप्रीम कोर्ट में आगे ही नहीं बढ़ पाया, जिससे कोई निर्णायक बात सामने आ पाती.उन्होंने कहा कि किसी भी राजनीतिक पार्टी के पास सीबीआई या किसी अन्य संस्थान को मजबूत करने का समय नहीं है. फिर चाहे सत्ता पक्ष की पार्टी हो या फिर विपक्ष में रहने वाली पार्टी हो, कोई ऐसा करना ही नहीं चाहता है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

 

इसे भी पढ़ें : F-16 को देखते ही अभिनंदन ने कहा,  यह मेरा शिकार है और मिसाइल दाग दी   

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like