न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कर्नाटक कांग्रेस में रार,  दो कांग्रेसी विधायकों के बीच मारपीट, चार कांग्रेसी बगावती, सिद्धारमैया ने बैठक बुलाई

आनंद सिंह की पत्नी लक्ष्मी सिंह ने गणेश के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की धमकी दी है. लक्ष्मी सिंह ने कहा, अगर यह सच है कि गणेश ने मेरे पति के साथ मारपीट की है तो मैं और मेरे बच्चे चुप नहीं बैठेंगे

54

NewDelhi : कर्नाटक में सत्ता का संघर्ष अभी टला नही है. रविवार को दो कांग्रेस विधायकों के बीच रिजॉर्ट के अंदर मारपीट की खबर सुर्खियों में है. साथ ही चार कांग्रेस विधायकों को लेकर अभी पार्टी परेशान है. बता दें कि ये विधायक शुक्रवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए थे;  इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया ने एक बार फिर सोमवार सुबह 11 बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक आयोजित की है. सभी विधायकों को इस बैठक में शामिल होने के लिए कहा गया है.  बता दें कि रविवार को कांग्रेस विधायकों के बीच मारपीट में आनंद सिंह चोटिल हो गये.  खबरों के अनुसार आनंद सिंह की पत्नी लक्ष्मी सिंह ने गणेश के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की धमकी दी है. लक्ष्मी सिंह ने कहा, अगर यह सच है कि गणेश ने मेरे पति के साथ मारपीट की है तो मैं और मेरे बच्चे चुप नहीं बैठेंगे और उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे.    पूर्व में 18 जनवरी को सिद्धारमैया ने विधायक दल की बैठक बुलाई थी.  उस समय चर्चा थी कि मुख्यमंत्री कुमारस्वामी इस बैठक से खुश नहीं थे. सूत्रों के अनुसार वह मुंबई गये विधायकों को वापस लाने की कोशिश कर रहे थे. इस बैठक से उनके प्लान पर असर पड़ा. बता दें कि विधायकों को तोड़े जाने की खबर के बाद कांग्रेस अपने विधायकों को रिजॉर्ट लेकर चली गयी थी.

आनंद सिंह को हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ गया

Trade Friends

इसके बाद भी पार्टी को राहत नहीं मिली और रिजॉर्ट में ही कांग्रेस विधायक आनंद सिंह और जेएन गणेश आपस में भिड़ गये. यह झगड़ा इतना गंभीर था कि आनंद सिंह को हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ गया.   आरोप था कि जेएन गणेश कांग्रेस से नाराज चल रहे एक और विधायक के संपर्क में थे और भाजपा के साथ जाने की तैयारी में थे. कहा जा रहा है कि इसी बात को लेकर आनंद और गणेश के बीच बहस हो गयी और गुस्साये गणेश ने आनंद के सिर पर बोतल दे मारी.  हालांकि अब पार्टी यह जताने की कोशिश कर रही है कि यह मामूली घटना थी और कुछ नेताओं का यह भी कहना है कि आनंद को चोट ही नहीं लगी, सीने में दर्द की वजह से अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

WH MART 1

 224 सदस्यों वाली  विधानसभा में बहुमत के लिए 113 विधायक  जरूरी

224 सदस्यों वाली कर्नाटक विधानसभा में बहुमत के लिए 113 विधायकों का समर्थन होना जरूरी है। अभी कांग्रेस-जेडीएस के कुल मिलाकर 117 (कांग्रेस के 80 और जेडीएस के 37) और भाजपा के 104 सदस्य हैं.  गठबंधन सरकार को बीएसपी के एक विधायक का समर्थन भी हासिल है.  इस तरह कुल 118 विधायक सरकार के समर्थन में हैं. बता दें कि निर्दलीय विधायक आर शंकर और एच नागेश ने पिछले हफ्ते समर्थन वापस ले लिया था. वर्तमान में पार्टी के चार विधायकों का रुख  साफ नहीं है.  इन विधायकों के भाजपा में जाने की भी अटकलें हैं। ऐसे में अगर चार विधायक कांग्रेस से अलग होते हैं तो गठबंधन सरकार के पास 114 विधायकों का समर्थन ही बचेगा. अगर कुछ और कांग्रेस विधायक टूटते हैं तो सरकार के लिए संकट गहरा जायेगा.

इसे भी पढ़ें : आप पीएम मोदी को मिले उपहार खरीदना चाहते हैं तो तैयार हो जाइए, होगी नीलामी…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like