न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

केरल में जारी है बारिश का कहर, राहत शिविरों में रह रहे 13,800 से अधिक लोग

बारिश के कारण छह दिनों में 39 लोगों की हुई मौत

415

Kochi : केरल में बारिश का कहर जारी है. उत्तरी पहाड़ी जिले वायनाड में रातभर बड़े पैमाने पर भूस्खलन हुए और बाढ़ आयी जिससे हजारों लोगों को राहत शिविरों में शरण लेने के लिए मजबूर होना पड़ा. अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि जिले के पश्चिमी घाट में भूस्खलन और जमीन धंसने के कारण कई लोगों को सोमवार को अपने घर छोड़कर भागना पड़ा. वहीं निचले इलाकों में रह रहे लोगों को राहत शिविरों में भेजा गया है.

इसे भी पढ़ें- जेल ले जाने से पहले होती है कैदियों की बेशर्म जांच, गालियों से होती है शुरूआत

जिले में 124 राहत शिविरों में 13,800 से अधिक लोगों को दी गई शरण

अधिकारियों ने बताया कि जिले में 124 राहत शिविरों में 13,800 से अधिक लोगों को शरण दी गई है. निचले इलाके डूब गए हैं. बानसुरा सागर बांध से क्षमता से अधिक पानी निकालने के लिए सोमवार रात उसके द्वार खोले गए. कन्नूर, कासरगोड, कोझिकोड, मलप्पुरम और पलक्कड़ समेत उत्तरी केरल जिलों के कई हिस्सों में भी बीती रात बारिश हुई. इडुक्की जलाशय से संबद्ध चेरुथोनी बांध के दो द्वार सोमवार शाम बंद कर दिए गए. बांध में पानी का स्तर घट रहा है जिससे निचले इलाकों खासतौर से एर्नाकुलम जिले में लोगों के प्रभावित होने का डर कम हो रहा है. हालांकि, मुल्लापेरियार बांध में जल स्तर 136 फुट पर पहुंच गया है जिससे अधिकारियों को अलर्ट जारी करना पड़ा. बांध के तलहटी क्षेत्र में लगातार बारिश हो रही है.

Trade Friends

इसे भी पढ़ें- सीएम की अध्यक्षता वाली विकास परिषद के सीईओ अनिल स्वरूप ने सरकार की कार्यशैली और ‘विकास’ पर उठाया सवाल

Related Posts

#Maharashtra: आज साफ हो सकती है सरकार गठन की तस्वीर, राउत बोले- कुछ रिश्तों से बाहर आना अच्छा होता है

गुरुवार को उद्धव ठाकरे और आदित्य ने मुंबई में शरद पवार से की मुलाकात

बारिश के कारण छह दिनों में 39 लोगों की हुई मौत

इस बीच, त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड ने पम्बा नदी में तेजी से जल स्तर बढ़ने के कारण श्रद्धालुओं को सबरीमाला तीर्थयात्रा ना करने की सलाह दी है. केरल के कई हिस्सों में सोमवार को मूसलाधार बारिश हुई जिससे जमीन धंसने के कारण पहले से ही परेशान लोगों की मुसीबतें और बढ़ गई हैं. राज्य में बारिश के कारण छह दिनों में 39 लोगों की मौत हो चुकी है. गृह मंत्रालय के राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया केंद्र (एनईआरसी) ने बताया कि केरल में मानसून से संबंधित घटनाओं में 187 लोगों की जान जा चुकी हैं. वहीं 14 जिलों में 2,406 गांव बारिश तथा बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं तथा 26,400 हेक्टेयर से अधिक की फसल बर्बाद हो गई है. मलप्पुरम, कोझिकोड, इडुक्की और वायनाड जिलों में विभिन्न स्थानों पर भूस्खलन की खबरें हैं.

इसे भी पढ़ें- रहने के लिहाज से टॉप पर पुणे, राजधानी दिल्ली पिछड़ी, टॉप-10 में महाराष्ट्र के चार शहर

इसे भी पढ़ें- फादर स्टेन ने कहा – सिर्फ मिशनरी ही नहीं बल्कि सभी NGO की हो CID जांच, प्रतुल ने कहा – आखिर क्या गुल छिपा रहे हैं

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like