न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

साक्षर कर्मियों को पदमुक्त किये हो गये 10 माह, अब तक नहीं मिली बकाया राशि

एक अप्रैल 2018 को सरकार ने किया था पदमुक्त, राज्य में लगभग 8 हजार साक्षर कर्मी है

386
  • शिक्षा सचिव ने कहा, केंद्र सरकार सही से आवंटित नहीं कर रही राशि

Ranchi : शिक्षकों की राज्य में कमी है. शिक्षक नियुक्ति हो नहीं रही और जो पहले से शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत हैं, उन्हें सरकार कार्यमुक्त कर रही है. केंद्र सरकार की भावी योजनाओं में से एक साक्षर भारत मिशन को राज्य में एक अप्रैल 2018 से बंद कर दिया गया है. योजना को बंद हुए 10 माह हो गये हैं, लेकिन सरकार की ओर से अब तक साक्षर कर्मी या प्रेरक के रूप में कार्यरत लोगों को प्रोत्साहन राशि नहीं दी गयी है. मानव संसाधन मंत्रालय भारत सरकार की ओर से यह योजना राज्य भर में साल 2009 को लागू की गयी थी. जिसके तहत राज्य में लगभग 8 हजार लोगों को साक्षर या प्रेरक कर्मी के रूप में संविदा पर नियुक्त किया गया था. योजना के तहत राज्य समन्वय के रूप में कार्य कर चुके भय भंजन महतो ने जानकारी दी कि केंद्र या राज्य सरकार की ओर से पूर्व से योजना बंद करने की कोई सूचना नहीं दी गयी थी,  अचानक एक अप्रैल 2018 से योजना को राज्य में बंद कर दिया गया.

चार स्तरों पर की गयी थी नियुक्ति

Trade Friends

योजना के तहत राज्य में चार स्तर पर साक्षर कर्मियों की नियुक्ति की गयी थी. जिसके तहत राज्य, जिला और ब्लॉक स्तर पर एक-एक समन्वयक और पंचायत स्तर पर दो समन्वयक की नियुक्ति की गयी थी. जिसमें पंचायत समन्वयकों को दो-दो हजार, ब्लॉक समन्वयकों को 6 हजार और जिला समन्वयकों को 8 हजार रुपये दिये जाते थे.

अलग योजनाओं के तहत रोजगार देने की बात की गयी थी

कई जिला और ब्लॉक समन्वयकों ने जानकारी दी कि इस संबध में कई बार राज्य के साक्षर कर्मियों ने शिक्षा मंत्री से मुलाकात की. जिसमें शिक्षा मंत्री ने हर बार 8000 कर्मियों को अलग-अलग योजनाओं के तहत रोजगार देने की बात कही. संजय सिंह ने जानकारी दी कि साक्षर कर्मियों का प्रतिनिधिमंडल कोडरमा स्थित शिक्षा मंत्री के आवास पर जाकर कई बार मुलाकात की, जिसमें हर बार मंत्री की ओर से एक ही आश्वासन मिला. लेकिन अब तक कर्मियों को रोजगार नहीं दिया गया.

कई माह से नहीं मिला बकाया राशि

समन्वयकों से बात करने से जानकारी हुई कि कई जिलों में 18-20 माह का राशि बकाया है. जिसमें धनबाद के झरिया में 32, निरसा 13, बलियापुर 5, बाघमारा 5 माह का राशि बकाया है. रामगढ़ के गोला प्रखंड का 16 माह का राशि. रांची में ओरमांझी प्रखंड का 8 माह, कांके प्रखंड का 10 माह. हजारीबाग में चरचू प्रखंड का 5 माह. देवघर के बाराजोड़ी का 12 माह. गिरिडीह के राजधनवार और बिरनी प्रखंड में 7 का राशि बकाया है.

मार्च माह में मिल जायेगी बकाया राशि

इस संबध में स्कूली शिक्षा साक्षरता विभाग के प्रधान सचिव एपी सिंह ने जानकारी दी कि केंद्र सरकार की योजना थी. ऐसे में केंद्र सरकार ही राशि आवंटित कर रही है. सही समय में राशि आवंटित नहीं होने के कारण समस्या हो रही है. मंत्रालय में पूर्व से पत्राचार किया गया है. मार्च माह में साक्षर कर्मियों को शेष राशि मिल जायेगी.

इसे भी पढ़ें – तो बताएं… झारखंड के नेताओं में अमर्यादित भाषा के लिए किसे मिल सकता है फर्स्ट प्राइज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like