न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Moblynching तबरेज आलम: पहले पुलिस ने कहा हार्ट अटैक से हुई मौत, अब जांच में सामने आया- अत्यधिक पिटाई की वजह से हुआ कार्डियक अरेस्ट

716

Ranchi: 17 जून को सरायकेला जिला के धातकीडीह गांव में ग्रामीणों के द्वारा तबरेज अंसारी की चोरी के आरोप में की गयी मारपीट के मामले में झारखंड पुलिस ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि तबरेज अंसारी की मौत गंभीर चोटों से शुरू हुए कार्डियक अरेस्ट के कारण हुई है. पहले पुलिस ने कहा था कि उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई थी.

इसे भी पढ़ें – 13 महीनों के वेतन पर बोले पुलिस कर्मी- ये ठीक वैसा ही है, जैसे कार देकर चारों टायर खोल लेना

मामले में जमशेदपुर के एक मेडिकल कॉलेज के पांच विभागाध्यक्षों द्वारा हस्ताक्षरित एक दस्तावेज इस बात की पुष्टि करता है कि 24 वर्षीय अंसारी जिस पर सरायकेला में एक भीड़ ने हमला किया था, उसकी मौत कार्डियक अरेस्ट से हुई थी, जो संभवतः उसकी गंभीर चोटों से शुरू हुई थी. उसमें सिर में एक फ्रैक्चर भी शामिल है.

दस्तावेज पर हस्ताक्षर करनेवाले लोग एसआइटी के सदस्य हैं और वह तबरेज की मौत के कारणों का पता लगा रहे थे. बता दें कि तबरेज पर सरायकेला में भीड़ ने हमला कर दिया था और उसे काफी चोट आयी थी.

इसे भी पढ़ें – थोपे हुए उम्मीदवार स्वीकार नहीं, राजनीतिक दल करें जन आंदोलन के उम्मीदवारों का समर्थनः जेरोम

Bharat Electronics 10 Dec 2019

पहले डॉक्टरों की टीम ने हार्ट अटैक को बतायी थी मौत की वजह

झारखंड पुलिस के द्वारा जारी की गयी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि पूर्व में समर्पित आरोप पत्र के समय पुलिस को प्राप्त पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत्यु का कारण हार्ट अटैक बताया गया था. इस मामले में बिसरा जांच के लिए सुरक्षित रखा गया था. एफएसएल से बिसरा जांच प्रतिवेदन प्राप्त होने पर चिकित्सकों के द्वारा तबरेज अंसारी की मौत का कारण हार्ट अटैक बताया गया था, परंतु पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हृदय गति रुकने का कारण स्पष्ट नहीं था. न्यायहित एवं कांड के सफल आयोजन के लिए पुलिस ने उच्च चिकित्सा संस्थान एमजीएम के विशेषज्ञ चिकित्सकों के बोर्ड से मृतक की मृत्यु के स्पष्ट कारण की मांग की. एमजीएम अस्पताल के विशेषज्ञ चिकित्सकों के बोर्ड ने बताया कि तबरेज अंसारी की मृत्यु का कारण कार्डियक अरेस्ट है, जो संभवतः उसकी गंभीर चोटों से शुरू हुई थी. उसके सिर का एक फ्रैक्चर भी शामिल है.

वीडियो की सत्यता से नहीं हुई है कोई छेड़छाड़

झारखंड पुलिस के द्वारा जारी की गयी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार इस घटना के संबंध में वायरल वीडियो की सत्यता की जांच रिपोर्ट भी पुलिस को प्राप्त हो गयी है. पुलिस द्वारा जब्त वायरल वीडियो की स्थिति में कोई छेड़छाड़ नहीं पाया गया. अतः पूरक अनुसंधान में संकलित अतिरिक्त साक्ष्य के आधार पर पूर्व में आरोप पत्रित अभियुक्तों के विरुद्ध धारा 302 के तहत पूरक आरोप पत्र समर्पित किया गया है.

बता दें कि इस घटना के तुरंत बाद पुलिस के द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए 11 अभियुक्तों को 72 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था. इस कांड के अच्छे अनुसंधान हेतु वैज्ञानिक अनुसंधान तथा तकनीकी साक्ष्य संकलन पर विशेष ध्यान दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – दानिश हत्याकांड में शामिल चार आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like