न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी कैबिनेट ने रेलवे कर्मचारियों के 78 दिन के बोनस पर मुहर लगायी,  e-cigarette पर बैन 

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में इन दोनों प्रमुख फैसलों पर मुहर लग गयी.

57

NewDelhi : केंद्र सरकार ने रेल कर्मियों को दिवाली का तोहफा देते हुए  रेलवे कर्मचारियों के लिए 78 दिनों का बोनस देने का ऐलान कर दिया है. यह  फैसला केंद्रीय कैबिनेट की बुधवार को हुई बैठक में किया गया.  जान लें कि बैठक में में एक और अहम फैसला ई-सिगरेट को लेकर किया गया.  सरकार ने ई-सिगरेट पर संपूर्ण पाबंदी लगा दी है.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में इन दोनों प्रमुख फैसलों पर मुहर लग गयी.

मोदी कैबिनेट ने आज कई कई अहम फैसले लिये. केंद्र सरकार के फैसले की जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि इस बार रेलवे के 11 लाख 52 हजार कर्मचारियों को 78 दिन का बोनस दिया जायेगा. इस पर रेलवे को 2024 करोड़ रुपये का खर्च आयेगा.

Trade Friends

इसे भी पढ़ें – 13 महीनों के वेतन पर बोले पुलिस कर्मी- ये ठीक वैसा ही है, जैसे कार देकर चारों टायर खोल लेना

भारत में ई-सिगरेट अब पूरी तरह से प्रतिबंधित

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पिछले 6 सालों से लगातार रेलवे कर्मचारियों को केंद्र सरकार बोनस देती आ रही है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का ये फैसला रेल कर्मचारियों को प्रोडक्टिविटी रिवार्ड है. इसके साथ ही मोदी कैबिनेट ने ई-सिगरेट पर बैन लगा दिया है. भारत में ई-सिगरेट अब पूरी तरह से प्रतिबंधित होगा.

इसे भी पढ़ेंः चतरा में 5 लाख का इनामी सबजोनल कमांडर गिरफ्तार

धूम्रपान सीख रहे युवाओं पर लगाम लगेगी :  निर्मला सीतारमण

WH MART 1

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि ई-सिगरेट पर बैन का मतलब इसके उत्पादन, आयात-निर्यात, ट्रांसपोर्ट, बिक्री, वितरण और विज्ञापन पर पूर्ण प्रतिबंध है. उन्होंने कहा कि सरकार के नये फैसले से ई-सिगरेट के जरिए धूम्रपान सीख रहे युवाओं पर लगाम लगेगी. स्वास्थ्य और परिवार विभाग की सचिव प्रीति सुदन ने कहा कि नये नियमों के अनुसार अगर कोई ई-सिगरेट बेचता है, इंपोर्ट या एक्सपोर्ट करता है तो पहली बार में उसे 1 साल की सजा या 1 लाख का जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है,

अगर कोई आगे भी ये अपराध करता है तो  तो 3 लाख का जुर्माना या फिर 5 साल की सजा या फिर दोनों हो सकता है. माना जाता है कि ई-सिगरेट के 400 ब्रांड हैं, हालांकि भारत में ई सिगरेट का कोई ब्रांड नहीं बनता है. रिपोर्ट के अनुसार  ई सिगरेट के 150 फ्लेवर बाजार में मिलते हैं. कैबिनेट द्वारा बैन की लिस्ट में ई-हुक्का भी शामिल है.

इसे भी पढ़ें – यह नया बाघमारा है, यहां रेप की राजनीति चलती है…

क्‍या है e-cigarette

ई-सिगरेट बैटरी से चलने वाले ऐसी डिवाइस है जिनमें लिक्विड भरा रहता है.  यह निकोटीन और दूसरे हानिकारक केमिकल्‍स का घोल होता है.  जब आप कश लगाते हैं तो हीटिंग डिवाइस इसे गर्म करके भाप (vapour) में बदल देती है। इसीलिए स्‍मोकिंग नहीं, vaping (वेपिंग) कहा जाता है. ।

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like