न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Parliament में और मजबूत हुई मोदी सरकार, राज्यसभा में बहुमत की ओर NDA

1,049

New Delhi: मौजूदा मोदी सरकार की संसद में स्थिति और मजबूत हुई है. संसद के उच्च सदन यानी राज्यसभा में विपक्षी दलों के सदस्यों के इस्तीफों के बीच सत्तारूढ़ एनडीए के सदस्यों की संख्या में इजाफा हुआ है.

जिसके कारण बहुमत के करीब पहुंची मोदी सरकार के लिये राज्यसभा में स्थिति बेहतर हो गयी है. बुधवार को राज्यसभा में कांग्रेस के सांसद के सी राममूर्ति ने उच्च सदन की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. माना जा रहा है कि वह भाजपा का दामन थाम सकते हैं.

JMM

इसे भी पढ़ेंः#RTIAct में संशोधन के बाद मुख्य सूचना आयुक्त, सूचना आयुक्तों का कद घटाने की तैयारी में मोदी सरकार, ड्राफ्ट तैयार

बीजेपी को और इस्तीफे की आस

भाजपा सूत्रों ने संसद के आगामी शीतकालीन सत्र से पहले विपक्ष के कुछ अन्य सदस्यों के इस्तीफे की उम्मीद जताते हुये आगामी सत्र में मित्र दलों के सहयोग से सरकार के लिये राह आसान होने का भरोसा जताया है.

लोकसभा चुनाव के बाद तेदेपा, कांग्रेस और सपा छोड़ने वाले राज्यसभा सदस्यों को उपचुनाव में भाजपा ने अपना उम्मीदवार बनाकर फिर से उच्च सदन में भेजा है. भाजपा को आने वाले दिनों में विपक्ष के कुछ अन्य सदस्यों के इस्तीफे की उम्मीद है.

इसे भी पढ़ेंःनिर्मला सीतारमण ने कहा- निवेश के लिए भारत से अच्छा कोई स्थान नहीं, सुधार के लिए प्रयासरत सरकार 

राज्यसभा का अंकगणित

राज्यसभा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के सदस्यों की संख्या अब 45 रह गयी है, वहीं विभिन्न राज्य विधानसभाओं में मजबूत स्थिति में पहुंची भाजपा को उच्च सदन की रिक्त सीटों पर होने वाले उपचुनाव के बाद 245 सदस्यीय सदन में उसके सदस्यों की संख्या 83 हो जायेगी.

राज्यसभा में अभी रिक्त सीटों की संख्या पांच है. सदन में भाजपा सहित एनडीए के सदस्यों की संख्या 106 है.

उच्च सदन में सत्तापक्ष का बाहर से समर्थन करने वाले अन्नाद्रमुक के 11, बीजद के सात, टीआरएस के छह, वाईएसआर कांग्रेस के दो और तीन अन्य क्षेत्रीय दलों का समर्थन एनडीए को किसी कानून निर्माण में बहुमत के संकट से उबारने में मददगार साबित होते हैं.

उल्लेखनीय है कि सत्तारूढ़ एनडीए का राज्यसभा में बहुमत नहीं होने के कारण मोदी सरकार को पिछले कार्यकाल में तीन तलाक सहित अन्य अहम विधेयकों को पारित कराने में खासी परेशानी का सामना करना पड़ा था.

इसे भी पढ़ेंःजानें झारखंड के कितने विधायक हैं दागी, IPC की कौन सी धारा के तहत चल रहा है माननीयों पर केस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like