न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अधिकतर लोग मानते हैं- राज्य के पिछड़ेपन का कारण वर्तमान रघुवर सरकार की गलत नीतियां

3,255

Ranchi:   झारखंड में अभी भाजपा की सरकार है. रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं. वह हर रोज चुनावी सभा कर रहे हैं. लोगों से कह रहें हैं: झामुमो-कांग्रेस बताये, राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ? झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन कह रहें हैं: 19 साल में 16 साल भाजपा शासन में रही. फिर भी राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ.

साफ है. राज्य के दो प्रमुख राजनीतिक दल के नेता यह तो मान रहे हैं कि राज्य की स्थिति खराब है. बच्चे कुपोषण के शिकार हैं. शिक्षा की स्थिति बदतर है. उद्योग नहीं लग रहे. युवकों को रोजगार नहीं मिल रहा. सरकार नियुक्ति प्रक्रिया पूरी नहीं कर पा रही. आर्थिक हालात खराब है. कर्ज बजट से अधिक हो गया है. पर, राजनीतिक दल जिनके हाथों में सत्ता की बागडोर रही है. वह खुद को साफ-सुथरा बताते हुए एक-दूसरे पर जिम्मेदारी थोप रहे हैं. लेकिन सच्चाई क्या है. आप क्या सोचते हैं. इसके लिए तीन बिंदु तय कर पाठकों से उनकी राय मांगी थी. ये तीन बिंदु थे-

  •     क्या राज्य के दो बड़े दलों का यह कहना जायज है?
  •     क्या राजनीतिक दलों को जिम्मेदारी नहीं लेनी चाहिए?
  •     राज्य की बदतर हालात के लिए कौन जिम्मेदार है? भाजपा ! झामुमो !  या कांग्रेस !

इसके प्रकाशन के बाद हमें अनगिनत प्रतिक्रियाएं मिलीं है. इनसे जाहिर होता है कि अधिकतर लोग मौजूदा सरकार को राज्य का विकास नहीं होने के लिए जिम्मेदार मानते हैं. कुछ मौजूदा सरकार के साथ पिछली सरकारों को भी दोष देते हैं. इसकी दो कड़ी हम पहले प्रकाशित कर चुके हैं. यहां प्रस्तुत है तीसरी कड़ी.

Trade Friends

पहली कड़ी में प्रकाशित पाठकों के विचार जानने के लिए यहां क्लिक करें

Rahul Hans       

मुझे लगता है झारखंड का विकास नहीं हो पाने के लिए बीजेपी ही जिम्मेदार है. क्योंकि जब से राज्य बना अधिक समय, बीजेपी का ही शासन रहा. बीजेपी शासन ने यहां के मूलवासी के साथ धोखा किया है. बीजेपी सरकार यहां के लोगो को बिना विश्वास में लिए विस्थापित किया है. यहां की नौकरी बाहरी लोगों की दी. मूलवासी को कौशल विकास के नाम पर 5000 के लिए दूसरे राज्यों में मजदूर बना दिया.

TP Singh

रज्य  की बदहाली के लिए भाजपा सत्तर प्रतिशत झामुमो पच्चीस प्रतिशत और कांग्रेस पांच प्रतिशत जिम्मेदार है. लेकिन फिलहाल कांग्रेस का वजूद ही नहीं. झामुमो के गुरु की पद लोलुपता जाहिर है. भाजपा का भ्रष्टाचार प्रेम सब पर भारी. केंद्र सरकार धृतराष्ट्र बनकर नंगा नाच को निर्देशित करता रही.

दूसरी कड़ी में प्रकाशित पाठकों के विचार जानने के लिए यहां क्लिक करें

Vijay Tiwary

As per my view… When jharkhand made separate state, that time BJP was in central and also in this state and now last ten years in centre also BJP government run to continue. In current time also BJP government is still present. Means from 15 November 2000 to till today ( 21 September 2019), non BJP government ruled only 5 to 6 years. No employment created by government. Many people roaming for searching job in other states. Many companies, industry shutdown closed likely private and government sector also. Here in jharkhand only paperbazi running and blaming game play to each other party.

Jay prakash Dubey

SGJ Jewellers

रघुवर दास सरकार बहुत झूठ बोलती है. करप्शन बढ़ा है. हाई स्कूल शिक्षक भर्ती में 11 जिलों के बेरोजगारों को धोखा दिया गया है. बाहरी लोगों की घुसपैंठ की गयी है. एक अनुमान है कि झारखंड में 40 हजार बाहरी लोगों की नौकरियों में घुसपैंठ हुई. नौकरी के लिए जो विज्ञापन निकाले जा रहे हैं, उनमें भारी भरकम राशि परीक्षा शुल्क के नाम मांगी जा रही है. इनको जरा भी चिंता नहीं है कि गरीब छात्र कैसे इसे चुका पायेंगे. इसी तरह नये ट्रैफिक रूल के बाद ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए असल खर्च से अधिक दलाली देनी पड़ रही है. ये सब भाजपा की सरकार आने के बाद भी जारी ही रहने की उम्मीद है.

Rohit Singh   

भाजपा ने राज्य को 50 साल पीछे कर दिया है.

Bhadaw Soren

kanak_mandir

कोई भी क्षेत्रीय दल अगर पूर्ण बहुमत में नहीं आता है, तो विकास संभव नहीं है. राष्ट्रीय पार्टी पूर्ण बहुमत से पिछले 5 सालों से रही है, और इसने सिर्फ घोषणा की है, तो यही कहा जा सकता है. बस घोटाले ही हुए. किसी भी राज्य का विकास केवल इंडस्ट्री से नहीं होता है. वहां के लोगों की जीवनशैली को कैसे बेहतर किया जाये, इस पर जोर देना चाहिये. और बात रही पार्टी की जिम्मेदारी की, तो ये साफ है कि अब तक विकास क्यों नहीं हुआ है. इसमें सभी ही पार्टी जिम्मेदार है. लेकिन सबसे ज्यादा जिसकी सरकार रही है वही है.

Binod Kumar

मुझे लगता है मुख्यमंत्री द्वारा विपक्षी दलों पर सवाल उठाना स्वाभाविक है. उन्हें बहुत अच्छे से पता है कि अगर किसी पार्टी को झारखंड के पिछड़ेपन का दोषी ठहराया जाना चाहिए तो वो बीजेपी ही होगी. किन्तु अपनी ही पार्टी पर कोई मुख्यमंत्री कैसे सवाल उठाये.

इसे भी पढ़ेंः #ElectionCommission ने हरियाणा-महाराष्ट्र में विस चुनाव का किया ऐलान, 21 अक्टूबर को वोटिंग, 24 को काउंटिंग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like