न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#MurshidabadMassacre : चार संदिग्ध हिरासत में,  पुलिस का राजनीतिक हत्या मानने से इनकार

पुलिस की टीम मुर्शिदाबाद के साथ-साथ बीरभूम जिले में भी पहुंची. यहां बंधु गोपाल पालके परिजन रहते हैं. यह उनका पैतृक गांव भी है.

79

Murshidabad :  पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में 35 वर्षीय अध्यापक बंधु गोपाल पाल, उनकी गर्भवती पत्नी तथा 8 साल के मासूम की निर्मम हत्या के मामले में पुलिस ने अब तक चार लोगों को हिरासत में लिया है. शनिवार को जिला पुलिस सूत्रों के हवाले से इस बारे में जानकारी दी गयी है. हालांकि चार लोगों में से दो को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया. बताया गया है कि तीन लोग पहले से हिरासत में थे. उनसे पूछताछ पर एक अन्य शख्स के बारे में भी भनक लगी जिसके बाद उसे शुक्रवार रात हिरासत में लिया गया.

इसे भी पढ़ें :कर्नाटक : कांग्रेस नेता व #FormerDeputyCMGParameshwara पर आयकर का शिकंजा, करीबी ने आत्महत्या की

JMM

पुलिस की टीम ने बंधु गोपाल के परिजनों से बात की

इसके अलावा पुलिस की टीम मुर्शिदाबाद के साथ-साथ बीरभूम जिले में भी पहुंची. यहां बंधु गोपाल पालके परिजन रहते हैं. यह उनका पैतृक गांव भी है. परिजनों से घंटों तक बातचीत की गयी. हालांकि पांच दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस ने इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं की है, जिसकी वजह से जिला प्रशासन पर सवाल खड़े हो रहे हैं.

इधर शनिवार सुबह जिला पुलिस की ओर से बताया गया कि पूरे क्षेत्र का सीसीटीवी फुटेज देखने और स्थानीय लोगों तथा परिजनों से पूछताछ के बाद सौभिक बनिक नाम के व्यक्ति के बारे में पता चला है. वह बंधु गोपाल का परिचित है.

उसका घर बीरभूम जिले के रामपुरहाट में है. वह सिउड़ी में भी किराये के मकान में रहता है. शुक्रवार रात  मुर्शिदाबाद और बीरभूम जिले की संयुक्त पुलिस टीम ने दोनों जगहों पर औचक छापेमारी की. घर की तलाशी ली गयी और कई सामानों को भी जब्त किया गया. हालांकि पुलिस के पहुंचने से पहले ही वह मौके से फरार होने में सफल रहा है. उसकी तलाश में पुलिस की टीम जुट गयी है.  इस हत्याकांड को लेकर भाजपा, कांग्रेस और माकपा ने एक सुर में ममता बनर्जी की सरकार को कटघरे में खड़ा किया है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

इसे भी पढ़ें :बकोरिया कांड: CBI ने तेज की जांच, आमने-सामने बैठाकर करेगी पूछताछ

जांच में राज्य सीआईडी से भी सहयोग लिया जा रहा है

लेकिन जिला पुलिस अधीक्षक आईपीएस मुकेश कुमार ने इस घटना को राजनीतिक हत्या मानने से इनकार कर दिया है. उन्होंने दावा किया है कि प्रारंभिक जांच में यह संपत्ति विवाद का मामला लग रहा है. साथ ही मारे गये पति पत्नी के बीच भी बेहतर संबंध नहीं होने का दावा पुलिस ने किया है. बताया जा रहा है कि घटनास्थल से गुरुवार को एक डायरी बरामद की गयी थी,  जिसमें पत्नी ने पति के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया था.

वारदात के बाद पुलिस ने तीन दिनों तक चुप्पी साधे रखी थी,  जिसे लेकर राज्य प्रशासन की तीखी आलोचना हो रही थी. मजबूरन शुक्रवार शाम पश्चिम बंगाल पुलिस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया गया, जिसमें इस बात की जानकारी दी गयी कि घटना की जांच में राज्य सीआईडी से भी सहयोग लिया जा रहा है.  ट्वीट में यह भी दावा किया गया कि इस हत्याकांड में किसी तरह से कोई राजनीतिक संबंध नहीं है.

जान लें कि  मंगलवार को विजया दशमी के दिन मुर्शिदाबाद के जियागंज क्षेत्र में पड़ोसियों ने कमरे के अंदर बंधु गोपाल पाल, उनकी 32 वर्षीया पत्नी ब्यूटी पॉल और 8 साल के बेटे अंगन पाल का खून से लथपथ शव देखा, जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गयी.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुरः जेएमएम विधायक चंपई सोरेन के बेटे बाबूलाल सोरेन डिफॉल्टर साबित, संपति होगी जब्त

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like