न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोल्हान के बाद पलामू में नक्सलियों की सक्रियता बढ़ी, वाहन जला पुलिस को दे रहे खुली चुनौती

विकास कार्यों में लगे वाहनों को निशाना बना रहे नक्सली संगठन, लेवी के लिए खौफ पैदा करना चाहते हैं

903

Ranchi : पिछले महीने कोल्हान प्रमंडल के सरायकेला-खरसावां जिले में नक्सलियों ने जिस तरह एक के बाद एक कई वारदात को अंजाम दिया, उसी तरह अब वे पलामू प्रमंडल में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं.

नक्सली संगठनों झारखंड जनमुक्ति मोर्चा (जेजेएमपी), तृतीय प्रस्तुति कमिटी (टीपीसी),भाकपा माओवादी की सक्रियता पलामू प्रमंडल में हाल के दिनों में बढ़ गयी है. लेवी वसूलने और दहशत फैलाने के मकसद से नक्सली विकास कार्यों में लगे वाहनों में आगजनी कर पुलिस को सीधी चुनौती दे रहे हैं. लगातार हो रही ऐसी घटनाएं पुलिस के लिए चिंता का विषय बनी हुई हैं.

JMM

इसे भी पढ़ें : Kolkata : हनुमान चालीसा पाठ में शामिल हुई मुस्लिम महिला तो जान से मारने की धमकी मिली

लेवी के लिए वाहनों में आगजनी और फायरिंग 

पलामू प्रमंडल के लातेहार पलामू और गढ़वा क्षेत्र में जेजेएमपी , टीपीसी और भाकपा माओवादी
नक्सली संगठनों द्वारा ठेकेदार, व्यापारी और विकास कार्य का काम करा रही कंपनियों से लेवी की मांग की जा रही है.

लेवी नहीं देने पर काम बंद करने की धमकी दी जाती है और काम बंद नहीं करने पर वाहनों में आगजनी और फायरिंग कर दहशत फैलाने का काम किया जा रहा है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

अचानक बढ़ गयी है जेजेएमपी की सक्रियता

हाल के दिनों में पलामू प्रमंडल में जेजेएमपी की सक्रियता ने पुलिस को परेशानी में डाल रखा है. लगातार इस संगठन द्वारा आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है. हाल के दिनों में कई बड़ी घटनाओं को अंजाम देकर जेजेएमपी उग्रवादियों ने पुलिस की सतर्कता की पोल खोल दी है.

इन हिंसक घटनाओं में भारी आर्थिक नुकसान हुआ है. दहशत का माहौल बन गया है. बावजूद पुलिस जेजेएमपी के खिलाफ अबतक कोई बड़ी कार्रवाई करने में सफलता प्राप्त नहीं कर पायी है.

अब नहीं मिल रही पहले की तरह लेवी

पुलिस के वरीय अधिकारियों से बात करने पर उन्होंने बताया कि पहले की तुलना में अब नक्सलियों को ज्यादा लेवी मिलना भी बंद हो गया है. इस वजह से नक्सलियों में बौखलाहट देखी जा रही है. लेवी नहीं मिलने के चलते नक्सली वाहनों में आग लगाकर दहशत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं.

नक्सलियों की अब कोई विचारधारा नहीं रह गई है. नक्सलियों का मुख्य मकसद अब लेवी वसूलना रह गया है. लेवी के पैसे से जहां नक्सली अपनी संपत्ति बढ़ा रहे हैं वहीं दूसरे राज्य से भी आये नक्सली लेवी वसूल फिर वापस अपने राज्य में लौट जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : लोहरदगा : मुठभेड़ में JJMP के तीन उग्रवादियों को पुलिस ने मार गिराया, दो AK-47 बरामद

6 महीने में 19 नक्सली मारे गये, 11 ने किया सरेंडर

झारखंड में जनवरी से लेकर जून तक पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ की 22 घटनाएं हुईं जिनमें 19 नक्सली मारे गये. पिछले छह महीने के दौरान झारखंड में पुलिस ने जहां 148 नक्सलियों को गिरफ्तार किया तो वहीं संगठन में हो रहे शोषण और प्रताड़ना से तंग आकर 11 नक्सलियों ने पुलिस के समक्ष सरेंडर कर दिया. वर्ष 2019 में जनवरी से लेकर जून तक नक्सलियों ने झारखंड में कुल 56 घटनाओं को अंजाम दिया है.

हाल के दिनों में हुई नक्सली वारदात

18 जुलाई : लातेहार जिले के बारेंसांड़ में नक्सलियों ने दो ट्रैक्टर, एक ट्रक और एक बाइक को आग के हवाले कर दिया.

12 जुलाई : लातेहार के टोरी चंदवा में 12 वाहन फूंक दिये और ताबड़तोड़ फायरिंग की.

8 जुलाई : पलामू के पांकी थानान्तर्गत आसेहार में स्थित पत्थर माइंस पर रात में अपराधियों ने लेवी के लिए फायरिंग की. 12 से 14 राउंड गोलियां चलायी गयीं.

4 जुलाई : गढ़वा के भंडरिया में बीड़ी पत्ता लेने आये दो ट्रको को जेजेएमपी उग्रवादियों ने आग के हवाले कर दिया.

इसे भी पढ़ें : चेन्नई में सड़क हादसे में चतरा के 10 मजदूरों की मौत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like