न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#MaryKom ने विश्व चैम्पियनशिप के दौरान विरोध दर्ज करने के नियम पर सवाल उठाया

1,815

New Delhi: छह बार की विश्व चैम्पियन एमसी मेरी कॉम ने विश्व चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में मिली हार के बाद विरोध दर्ज करने के नियम पर सवाल उठाते हुए कहा कि इसके पीछे का तर्क उनकी समझ से परे है.

मेरी कॉम ने खेल मंत्रालय के सम्मान समारोह कार्यक्रम के इतर कहा, ‘‘ हमारे विरोध को इसलिए स्वीकार नहीं किया गया क्योंकि मैं 1-4 के फैसले से हारी थी. मुझे नहीं पता कि यह कैसा नियम है कि आप 1-4 से हारने के बाद विरोध नहीं दर्ज करा सकते.’’

इसे भी पढ़ेंः #Nobellaureate अभिजीत बनर्जी ने कहा,  राष्ट्रवाद गरीबी जैसे मुद्दों से ध्यान भटका देता है… 

विश्व चैम्पियनशिप में रिकार्ड आठवां और 51 किग्रा में पहला पदक जीतने वाली इस दिग्गज मुक्केबाज ने कहा, ‘‘अगर जीत के हकदार को हरा दिया जाए तो यह खेल के लिए अच्छा नहीं होगा. ’’

Trade Friends

मेरी कॉम को तुर्की की बुसेनाज काकिरोग्लू से 1 – 4 से पराजय झेलनी पड़ी. भारतीय दल ने इस फैसले का रिव्यू मांगा लेकिन अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ की तकनीकी समिति ने उनकी अपील खारिज कर दी. नियमों के मुताबिक फैसले पर विरोध तभी दर्ज किया जा सकता है जब वह 3-2 या 3-1 का होगा.

इसे भी पढ़ेंः #PMModi की रैली में शख्स ने ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ पर उठाये सवाल, मंच की ओर फेंके पन्ने

उन्होंने कहा कि इस हार के बावजूद भी विश्व चैम्पियनशिप से उनका आत्मविश्वास बढ़ा है जिससे वह तोक्यो ओलंपिक में पदक जीत सकती है.

उन्होंने कहा, ‘‘ सेमीफाइनल में हार के बाद भी विश्व चैम्पियनशिप आगे की तैयारियों के लिए अच्छी रही. मैं पूरी तरह से फिट थी और 51 किग्रा में अच्छे लय में थी. इससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ा है और मैं ओलंपिक में बेहतर कर सकती हूं.’’

इस मौके पर 48 किग्रा भार में रजत जीतने वाली मंजू रानी और कांस्य पदक जीतने वाली जमुना बोरो (54 किग्रा) तथा लवलीना बोरगोहेन (69 किलो) को भी सम्मानित किया गया.

इसे भी पढ़ेंः पिछले 10 महीनों में रिश्वत लेनेवाले 12 पुलिस अधिकारियों को ACB ने किया गिरफ्तार

 

SGJ Jewellers

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like