न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

News Wing Impact: जिस डिफेंस लैंड पर माफिया ने किया था कब्जा, प्रशासन ने रद्द किया उसका म्यूटेशन

3,968

Akshay Kumar Jha

Ranchi: झारखंड बनते ही राज्य में जमीन लूट की शुरुआत हुई. जो अब यहां एक परंपरा बन चुकी है. बड़े नेता हों या अधिकारी कइयों के नाम जमीन संबंधी कानून तोड़ने से जुड़े हैं. इसी लूट के बीच न्यूज विंग ने अरगोड़ा अंचल के हीनू मौजा के खाता नंबर 122 के प्लॉट नंबर 1602, 1603 से जुड़ी खबर चलायी. यह जमीन शुद्ध रूप से एक डिफेंस लैंड है.

JMM

जिसपर रिप्लिका इस्टेट नाम की कंपनी ने फर्जी तरीके से कब्जा कर लिया था. कब्जा करने के बाद कंपनी ने प्रशासन की मिलीभगत से इसकी रजिस्ट्री औऱ म्यूटेशन दोनों करा लिया. इतना ही नहीं रिप्लिका ने इस जमीन को बेच भी दिया. दोबारा से इस जमीन की रजिस्ट्री हुई और दूसरी बार एक बार फिर से इसका म्यूटेशन कराने की तैयारी थी.

इसे भी पढ़ें – सीएनटी ही नहीं आर्मी की जमीन पर भी माफिया ने कर लिया कब्जा और देखता रहा प्रशासन-1

न्यूज विंग ने इस खबर को एक सीरीज के तहत तीन किस्तों में खबर चलायी. अब रांची के डीसीएलआर ने इस जमीन का म्यूटेशन रद्द करने का आदेश निकाला है. जिससे साबित होता है कि न्यूज ने एक सच्ची खबर चलायी थी, जिसपर रांची प्रशासन ने कार्रवाई की है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

कैसे किया था कब्जा

खाली जमीन देखकर इसे कब्जा करने की मंशा कई लोगों के दिमाग में थी. लेकिन सटीक दाव लगा रिप्लिका इस्टेट नाम की कंपनी का. कंपनी ने 2009 में ही जमीन की रजिस्ट्री और म्यूटेशन करा लिया. इस जमीन को दोबारा से कंपनी ने रांची के जिला सहकारिता अधिकारी मनोज कुमार साहू को बेच दिया गया.

दोबारा से जमीन की रजिस्ट्री हुई. जबकि जमीन की रजिस्ट्री ना हो, इसके लिए रजिस्ट्री कार्यालय में एक आवेदन भी दिया गया था.

इसे भी पढ़ें – आदिवासी कल्याण के लिए दी गयी दस करोड़ की राशि गुमला #SBI से शातिरों ने अपने खाते में की ट्रांसफर

बिना वन विभाग के परमिशन के काटे और जलाये जा रहे हैं पेड़

जिस आर्मी की जमीन पर पहले रिप्लिका इस्टेट ने पहले कब्जा किया और मोटी रकम पर जिला सहकारिता अधिकारी को बेची, उस जमीन पर सखुआ और लीची के कई पेड़ लगे हुए थे. जमीन पर निर्माण करने के लिए झारखंड सरकार की सरकारी गाड़ी खड़ी कर बिना वन विभाग की अनुमति के पेड़ काटे गए. साथ ही लीची के पेड़ों में आग लगा दी गयी. ताकि वो सूख जाए और बाद में उसे काटा जा सके.

इसे भी पढ़ें – कोर्ट ने की डिफेंस लैंड होने की पुष्टि, भू-अर्जन पदाधिकारी ने म्यूटेशन रद्द करने दिया आदेश, लेकिन माफिया लूटते रहे जमीन-2

आरटीआई से भी हुआ खुलासा

अरगोड़ा अंचल के हीनू मौजा के खाता नंबर 122 के प्लॉट नंबर 1602, 1603 शुद्ध रूप से आर्मी की जमीन है. इस बात की पुष्टि और कोई नहीं बल्कि खुद प्रशासन कर रहा है. 14 अगस्त 2018 को अरगोड़ा अंचल कार्यालय ने एक आरटीआई का जवाब दिया. आरटीआई इसी जमीन से संबंधित थी.

अंचल कार्यालय के जवाब में जो लिखा है, उसे देखकर प्रशासन के काम करने के तरीके का पता चलता है. अंचल कार्यालय के जवाब में उक्त जमीन को आर्मी का भी बताया जा रहा है और रिप्लिका इस्टेट प्राइवेट लिमिटेड का भी.

अंचल कार्यालय लिखता है कि खाता नंबर 122 के 1602 प्लॉट नंबर रकबा 12 कट्ठा जमीन रिप्लिका इस्टेट के साथ-साथ सैन्य अधिग्रहण में अर्जित है. जबकि ऐसा कतई नहीं हो सकता. या तो जमीन कंपनी की होगी या फिर यह जमीन सेना की होगी. एक ही समय में जमीन के दो-दो मालिक कैसे हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ें – रिप्लिका इस्टेट ने आर्मी लैंड का पहले बनाया हुक्मनामा, फिर करायी रजिस्ट्री और म्यूटेशन करवा कर बेच दिया-3

एसएआर कोर्ट ने माना कि जमीन आर्मी लैंड है

खूंटी-चाइबासा रोड पर स्थित अरगोड़ा अंचल के खाता 122 प्लॉट नंबर 1601, 1602 और 1604 का मामला एसएआर (शिड्यूल एरिया रेगुलेटरी कोर्ट) पहुंचा. सात जुलाई 2017 को डीसी रांची, जो कोर्ट में जज की भूमिका में होते हैं.

उन्होंने मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि सभी पक्षों और तमाम सबूतों को देखने के बाद यह साबित होता है कि अरगोड़ा अंचल के खाता नंबर 122, प्लॉट नंबर 1601 का 0.92 एकड़ जमीन, 1602 का 0.26 एकड़ जमीन और 1604 का 0.38 एकड़ जमीन मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस ने अधिग्रहित की है. इसलिए आवेदक की बात सही है.

इसे भी पढ़ें – आदिवासी कल्याण के लिए दी गयी दस करोड़ की राशि गुमला #SBI से शातिरों ने अपने खाते में की ट्रांसफर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like