न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#NIA ने भाकपा माओवादी के कमांडर छोटू खेरवार की पत्नी ललिता देवी को किया गिरफ्तार

नक्सलियों को पैसा म्यूचुअल फंड में निवेश कराने के मामले में ललिता कई महीनों से फरार थी.

672

Ranchi : एनआइए (नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी) ने शुक्रवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए भाकपा माओवादी के कमांडर छोटू खेरवार की पत्नी ललिता देवी को लातेहार से गिरफ्तार कर लिया.

नक्सलियों का पैसा निवेश कराने के मामले में ललिता कई महीनों से फरार थी. एनआइए ने उसके खिलाफ 19 जनवरी 2018 को मुकदमा आरसी 01/2018 दर्ज किया था. दो जुलाई को उसे वांटेड घोषित किया था.

इसे भी पढ़ें : #EconomicSlowDown : टाटा मोटर्स में जारी रहेगा ब्लॉक क्लोजर, टाटा स्टील से 16 कर्मियों की होगी छुट्टी

Trade Friends

इस मामले को लेकर हुई ललिता देवी की गिरफ्तारी

मिली जानकारी के अनुसार 21 दिसंबर 2016 को लातेहार के बालूमाथ थाना की पुलिस ने सहारा इंडिया के एक मैनेजर के पास से 3 लाख रुपये की बरामदगी की थी.

मैनेजर चंदन कुमार ने खुलासा किया था कि ये पैसे नक्सली कमांडर छोटू खेरवार के थे. छोटू के 26 लाख रूपये की निवेश की एक डिपोजिट स्लिप भी पुलिस को मिली थी जिसमें 12 लाख रुपये ललिता के नाम पर थे.

बीते साल 19 जनवरी को एनआइए ने इस केस को टेकओवर कर जांच शुरू की थी.

इसे भी पढ़ें : #JharkhandPolice ने HC को सौंपे दागी जनप्रतिनिधियों के ब्योरे में CM, तीन मंत्रियों व सांसद का नाम छिपाया

एनआइए पूर्व में दाखिल कर चुकी है चार्जशीट

रांची में एनआइए की विशेष अदालत में छोटू के अलावा लातेहार के उसके दो रिश्तेदारों के खिलाफ पूर्व में चार्जशीट दाखिल की गयी थी.

लातेहार के गारू थाना क्षेत्र के चंपीकोट्टम में रहने वाले संतोष उरांव, उसके रिश्तेदार बाजकुम निवासी रोशन उरांव और पत्नी ललिता देवी के खिलाफ सुपुर्द चार्जशीट में एनआइए ने दावा किया था कि इन लोगों ने नक्सलियों के पैसों का म्यूचुअल फंड समेत विभिन्न स्कीम में निवेश कराया.

संतोष व रोशन की गिरफ्तारी इस मामले में हो चुकी है जबकि ललिता फरार चल रही थी.

जिन कंपनियों में पैसा निवेश हुआ वो बंद

एनआइए ने बेड़ो व हेसल में विकास म्युचुअल बेनीफिट निधि लिमिटेड के दफ्तर में छापेमारी की थी. एनआइए ने दोनों दफ्तरों से दो लैपटॉप, दो सीपीयू, पेन ड्राइव के साथ कई कागजात जब्त किये.

वहीं, जांच में सामने आया  कि छोटू के 15 लाख रुपये का निवेश म्युचुअल फंड में किया गया. इसी तर्ज पर उसने नक्सलियों के पैसों का भी म्युचुअल फंड समेत कई जगह निवेश कराया है.

SGJ Jewellers

एनआइए ने इस मामले की जानकारी राज्य पुलिस की सीआइडी को भी दी थी. सीआइडी ने इस मामले में जांच की तो पता चला कि एनआइए की कार्रवाई के बाद दोनों म्युचुअल फंड कंपनियों के दफ्तर बंद कर संचालक फरार हो चुके हैं.

इसे भी पढ़ें : जीरो टॉलरेंस सरकार में चोरी हो गयीं #MNREGA से बनी 4 करोड़ की 40 सड़कें

kanak_mandir

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like